यूक्रेन संकट: भारतीय छात्रा का साहस, कहा- मकान मालिक के बच्चों को छोड़कर नहीं जाऊंगी

नेहा की मां हरियाणा के चरखी दादरी जिले में शिक्षिका हैं। नेहा ने अपनी मां से कहा है कि मेरे साथ कुछ भी हो मैं इन बच्चों और उनकी मां को ऐसे हालात में अकेला छोड़कर नहीं आ सकती हूं।

यूक्रेन संकट: भारतीय छात्रा का साहस, कहा- मकान मालिक के बच्चों को छोड़कर नहीं जाऊंगी
Photo by Max Kukurudziak / Unsplash

यूक्रेन इस समय रूस के हमले का सामना कर रहा है और गंभीर हालात से गुजर रहा है। यहां रह रहे अन्य देशों के लोग जहां यूक्रेन छोड़ने की फिराक में हैं वहीं भारत के हरियाणा की एक छात्रा अपने मकान मालिक के बच्चों को छोड़ कर जाने के लिए तैयार नहीं है। इस 17 वर्षीय छात्रा का कहना है कि मेरे मकान मालिक सेना में भर्ती हो गए हैं और ऐसी स्थिति में मैं उनकी पत्नी और तीन बच्चों को ऐसे कठिन समय में छोड़ कर जाना नहीं चाहती हूं।

इस 17 वर्ष की छात्रा का नाम नेहा है। नेहा की मां की एक दोस्त सविता जाखर ने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा कि नेहा को यूक्रेन में हॉस्टल में जगह नहीं मिली थी। इसलिए तीन बच्चों वाले एक प्यारे से परिवार के साथ वह कमरा किराये पर लेकर रहती थी। इन बच्चों के पिता सेना में शामिल हो गए हैं और मां अपने बच्चों के साथ एक बंकर में है। नेहा भी इन लोगों के साथ बंकर में ही है।