सशर्त ग्रीन कार्ड धारकों को मिल सकती है साक्षात्कार से राहत, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

अगर कोई भारतीय किसी अमेरिकी या ग्रीन कार्ड धारक से विवाह करता है तो उसे सशर्त ग्रीन कार्ड मिलता है। इसकी अवधि दो साल की होती है। इसे हासिल करना ही चुनौतीपूर्ण कार्य है क्योंकि कई फॉर्म भरने होते हैं। अब इसमें राहत मिल रही है।

सशर्त ग्रीन कार्ड धारकों को मिल सकती है साक्षात्कार से राहत, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

आप्रवासन नीतियां उन लोगों के लिए अक्सर चुनौतियां खड़ी कर देती हैं जिन्होंने किसी अमेरिका नागरिक या ग्रीन कार्ड धारक से शादी की है। लेकिन इसमें विभिन्न प्रक्रियाओं का एक पक्ष आसान किया गया है। अमेरिकी नागरिकता एवं आप्रवासन सेना (USCIS) ने एक पॉलिसी अपडेट के तहत एलान किया है कि पति या पत्नी को सशर्त ग्रीन कार्ड की अवधि पूरी होने पर जिस साक्षात्कार से गुजरना पड़ता था, उससे उन्हें अब राहत दी जाएगी।

अगर कोई भारतीय किसी अमेरिकी या ग्रीन कार्ड धारक से विवाह करता है तो उसे सशर्त ग्रीन कार्ड मिलता है। इसकी अवधि दो साल की होती है। इसे हासिल करना ही चुनौतीपूर्ण कार्य है क्योंकि कई फॉर्म भरने होते हैं और भारत में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास में साक्षात्कार होता है। लेकिन कहानी यहीं खत्म नहीं होती। अमेरिका पहुंचने के बाद फिर फॉर्म भरना होता है और साक्षात्कार होता है। साक्षात्कार के नियम को अब सरल किया गया है।

ऐसे पति या पत्नी जिन्होंने कांसुलर प्रक्रिया के माध्यम से सशर्त ग्रीन कार्ड प्राप्त हुआ है उन्हें 'शर्तों' को हटाने या दूसरे शब्दों में कहें तो पूर्ण स्थायी निवासी की स्थिति पाने के लिए फॉर्म I-751 दाखिल करना होगा। इस फॉर्म को ग्रीन कार्ड की अवधि समाप्त होने से 90 दिन पहले भरना आवश्यक है। बता दें कि नवंबर 2018 में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन ने इसके लिए एक साक्षात्कार अनिवार्य कर दिया था जिसे अब वापस ले लिया गया है।

नीति में अपडेट के बाद अगर एजेंसी अधिकारी यह कहता है कि आवेदन की शादी की प्रामाणिकता के बारे में पर्याप्त सबूत हैं, समर्थन दस्तावेजों में धोखाधड़ी या गलत बयानी का कोई संकेत नहीं है, हल करने के लिए कोई जटिल तथ्य अथवा मुद्दे नहीं हैं और उनका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है तो ऐसी स्थिति में यूएससीआईएस साक्षात्कार से राहत दे सकता है। अभी तक आवेदक के लिए साक्षात्कार की प्रक्रिया से गुजरना अनिवार्य था।

छात्रों, पेशेवरों और कलाकारों को भी दी गई है राहत

अमेरिका ने इस साल 31 दिसंबर तक छात्र (F, M, और Academic J), पेशेवर (H-1, H-2, H-3 और L) नामी कलाकार (O, P, और Q) श्रेणी के पात्र भारतीय वीजा आवेदकों को भी साक्षात्कार से छूट दी है। अमेरिकी वीजा पाने के लिए व्यक्तिगत साक्षात्कार होता है। इसमें आवेदक से अमेरिकी इमिग्रेशन अधिकारी कई तरह के कठिन सवाल करते हैं। अक्सर इस साक्षात्कार के आधार पर बहुत से लोगों को वीजा नहीं मिल पाता है।