'2022 यूएस प्रेसिडेंशियल स्कॉलर्स' में कई भारतीय-अमेरिकी छात्र भी शामिल

यूएस प्रेसिडेंशियल स्कॉलर की शुरुआत साल 1964 में राष्ट्रपति के कार्यकारी आदेश पर की गई थी। यह कदम देश के सबसे प्रतिभाशाली हाईस्कूल स्नातकों को सम्मानित करने के लिए उठाया गया था। स्कॉलरशिप में छात्रों के चयन में सामुदायिक सेवा और नेतृत्व के पहलू को भी ध्यान में रखा जाता है।

'2022 यूएस प्रेसिडेंशियल स्कॉलर्स' में कई भारतीय-अमेरिकी छात्र भी शामिल

साल 2022 के लिए यूएस प्रेसिडेंशियल स्कॉलर्स के लिए नामित 161 छात्रों में से कई भारतीय-अमेरिकी हाईस्कूल छात्र भी शामिल हैं। अमेरिकी शिक्षा सचिव डॉ. मिगेल कारडोना ने 12 मई को 58th Class of US Presidential Scholars का एलान किया था।

रेवा श्रीवास्तव (कैलिफोर्निया), अदम्य अग्रवाल (पेन्सिल्वेनिया), उमा पिल्लई (वर्जीनिया), सलिल नाइक (एरिजोना)

इस स्कॉलरशिप के लिए छात्रों का चयन व्हाइट हाउस आयोग की ओर से उनकी एकेडमिक सक्सेस, आर्टिस्टिक और टेक्निकल क्षमताएं, निबंध, स्कूल का आकलन और ट्रांस्क्रिप्ट के आधार पर किया जाता है। इसके अलावा सामुदायिक सेवा और नेतृत्व के पहलू को भी ध्यान में रखा जाता है।

अमेरिका के शिक्षा विभाग की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कारडोना ने कहा कि हमारे 2022 प्रेसिडेंशियल स्कॉलर अमेरिका के सर्वश्रेष्ठ छात्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। यह हमें याद दिलाता है कि अगर हमारे पास शिक्षा की शक्ति है तो ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे हमारे युवा पा नहीं सकते।

बता दें कि यूएस प्रेसिडेंशियल स्कॉलर की शुरुआत साल 1964 में राष्ट्रपति के कार्यकारी आदेश पर की गई थी। यह कदम देश के सबसे प्रतिभाशाली हाईस्कूल स्नातकों को सम्मानित करने के लिए उठाया गया था। साल 1979 में इसमें विजुअल, क्रिएटिव और परफॉर्मिंग आर्ट्स में शानदार प्रदर्शन करने वाले छात्रों को भी इसके दायरे में लाया गया था।

इन भारतीय-अमेरिकी छात्रों को मिली जगह

सलिल नायक (एरिजोना), रेवा श्रीवास्तव (कैलिफोर्निया), रिषिका कार्तिक (कोलोराडो), आदित्य काबरा व माया प्रफुल्ल शाह पलांकी (कनेक्टिकट), अर्जन सिंह कहलों व श्रीया पित्ताला (डेलावेयर), सांध्य कुमार (फ्लोरिडा), जुई खनकारी, ऋषि पटेल, जैस्नव राजेश व पिया शाह (इलिनोइस), काव्या कलाथुर (आयोवा), शेखर कुमार गुगनानी व गौरी यादव (कंसास), आशिनी मोदी (लुइसियाना), सिरोही जी कुमार (मेन), ध्रुव भंडारकर (मैरीलैंड), दैदीप्य गुथिकोंडा (मिनेसोटा), दिया चावला (मिसिसिपी), दीप्ति मोहनराज (नॉर्थ कैरोलिना), ऐश्वर्य स्वामिदुराई (ओक्लाहोमा), अदम्य अग्रवाल (पेन्सिल्वेनिया), सिद्ध बंब (टेक्सास), मालविका जी सिंह (यूटाह), श्रीराम सेतुरमण (वरमोंट), उमा पिल्लै (वर्जीनिया) और अनन्य कृष्णा (विस्कॉन्सिन)।