मंदिर तो बन ही रहा है, करीब 500 साल बाद विराजे रामलला को भी देख लें

इस ऐतिहासिक पल को खास बनाने के लिए मंदिर के पूरे गर्भगृह को फूलों से सजाया गया। वहां की छठा देखकर हर कोई आनंदित हो रहा था। रामलला को विशेष भोग भी लगाया गया।

मंदिर तो बन ही रहा है, करीब 500 साल बाद विराजे रामलला को भी देख लें

अयोध्या में इन दिनों झूला महोत्सव चल रहा है, जिसमें रामलला (भगवान श्रीराम) चांदी के झूले में विराजमान होकर भक्तों को दर्शन दे रहे हैं। पिछले करीब 500 सालों में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब रामलला को चांदी के झूले में झुलाया जा रहा है। यह झूला महोत्सव रक्षाबंधन पर्व तक चलेगा। इस दौरान भक्त मनमोहक रामलला के दर्शन कर पाएंगे। खास बात यह है कि रामलला जिस झूले में झूल रहे हैं, वह 21 किलोग्राम चांदी से बनाया गया है।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के मुताबिक यह श्रावण शुक्ल तृतीया (11 अगस्त) से अयोध्या में झूला मेला प्रारम्भ हुआ। मन्दिरों में भगवान को झूला पर रक्षाबन्धन पर्व तक झुलाया जाएगा। इसके अलावा उन्हें गीत भी सुनाए जाएंगे। रामलला के लिए चांदी का 21 किलो का झूला प्रभु को समर्पित कर दिया है। पूरे विधि-विधान के साथ मंदिर के पुजारियों ने रामलला को इस झूले पर विराजमान किया।