कोरोना से कांपा चीन, शंघाई में भारतीय वाणिज्य दूतावास में ये सेवा बंद

वाणिज्य दूतावास ने नोटिस जारी कर कहा कि पूर्वी चीन क्षेत्र में रह रहे भारतीय नागरिक राजनयिक सेवाओं के लिए बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास से संपर्क कर सकते हैं। दूतावास ने कहा है कि शंघाई म्युनिसिपल पीपुल्स सरकार ने शहर को सील कर रखा है।

कोरोना से कांपा चीन, शंघाई में भारतीय वाणिज्य दूतावास में ये सेवा बंद

कोरोना महामारी ने चीन को फिर से पूरी तरह से कंपा दिया है। कोरोना वायरस की तीसरी लहर उसके नियंत्रण से बाहर हो रही है। तमाम तरह की सख्ती के बावजूद रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं। हालत ये है कि बीते 24 घंटे में कोरोना के 26 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं। ऐसे में शंघाई स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास ने ‘इन-पर्सन’ यानी दूतावास परिसर जाकर मिलने वाली राजनयिक सेवाएं निलंबित कर दी हैं।

वाणिज्य दूतावास ने नोटिस जारी कर कहा कि पूर्वी चीन क्षेत्र में रह रहे भारतीय नागरिक राजनयिक सेवाओं के लिए बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास से संपर्क कर सकते हैं। दूतावास ने कहा है कि शंघाई म्युनिसिपल पीपुल्स सरकार ने शहर को सील कर रखा है। अलग-अलग स्तर पर कई तरह की पाबंदियां लगाई हैं। ऐसे में यहां स्थित भारत का महावाणिज्य दूतावास बंद रहेगा। वह राजनयिक सेवाएं मुहैया कराने की स्थिति में नहीं है।

शंघाई में कोरोना के मामले बढ़ने से वीरान सड़कें। 

हालांकि महावाणिज्य दूत डी नंदकुमार ने कहा कि शंघाई में रह रहे 1,000 से अधिक भारतीय नागरिकों को परामर्श सहित अन्य जरूरी सहायता प्रदान करना जारी रखेंगे। नंदकुमार का कहना है कि फिलहाल वाणिज्य दूतावास के करीब 22 सदस्य अपने घरों से काम कर रहे हैं। भारतीय कर्मचारियों और भारतीय प्रवासियों में संक्रमण के मामले सामने नहीं आए हैं, फिर भी वाणिज्य दूतावास समुदाय के सदस्यों के संपर्क में है। नंदकुमार ने कहा कि लॉकडाउन के बीच वाणिज्य दूतावास स्थानीय सरकार के माध्यम से भारतीय परिवारों को खाने-पीने का सामान वितरित करने की व्यवस्था करने में जुटा है।

गौरतलब है कि चीन में एक बार फिर से कोरोना वायरस बहुत तेजी से पैर पसार रहा है। कोरोना वायरस का ओमीक्रोन BA2 वेरिएंट न केवल चीन के शंघाई शहर में बल्कि 29 अन्य राज्यों में फैल गया है। शंघाई में हालत यह है कि आम आदमी खाने के लिए तरस रहे हैं और उन्हें मेडिकल सुविधाएं भी नहीं मिल पा रही हैं।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने बुधवार को बताया कि शंघाई में बीते 24 घंटों में संक्रमण के मामले एक बार फिर 26,000 के पार चले गए हैं, जिससे स्वास्थ्य सेवाओं पर भारी बोझ बढ़ गया है। शंघाई में 28 मार्च को लॉकडाउन लगाया गया था। शहर में बड़े पैमाने पर लोगों की कोरोना जांच की जा रही है। हांगकांग के ‘साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट’ने बुधवार को कहा कि लॉकडाउन की वजह से लोगों में असंतोष बढ़ रहा है।