UN के 'कल्पना चावला प्रोजेक्ट' से जुड़ी भारतीय अमेरिकी शिरीषा बंदला

बंदला का जन्म भारत के आंध्र प्रदेश राज्य के गुंटूर जिले में हुआ था। बाद में वह अमेरिका चली गईं जहां से उन्होंने पर्ड्यू विश्वविद्यालय से एयरोनॉटिकल और एस्ट्रोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बीएस और जॉर्ज वाशिंगटन विश्वविद्यालय से एमबीए किया। बंदला अंतरिक्ष में जाने वाली दूसरी भारतीय अमेरिकी महिला हैं।

UN के 'कल्पना चावला प्रोजेक्ट' से जुड़ी भारतीय अमेरिकी शिरीषा बंदला

संयुक्त राष्ट्र ‘विश्व अंतरिक्ष सप्ताह’ की थीम ‘अंतरिक्ष में महिलाएं’ रखी गई हैं। इसमें भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सिरीशा बंदला को कल्पना चावला प्रोजेक्ट की सलाहकार समिति में शामिल किया गया है।

यह कार्यक्रम 4 से 10 अक्टूबर तक चलेगा। इंटरनेशनल स्पेस यूनिवर्सिटी (आईएसयू) के कल्पना प्रोजेक्ट को भारत के करनाल में जन्मी डॉ. कल्पना चावला के सम्मान में बनाया गया है। कल्पना भारतीय मूल की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री हैं, जिनकी वर्ष 2003 स्पेस शटल कोलंबिया STS-107 के क्रैश होने से मृत्यु हो गई थी। कल्पना प्रोजेक्ट भारतीय महिलाओं के साथ तकनीकी और नेतृत्व के गुणों को विकसित करने पर केंद्रित है।