अमेरिकी सैनिकों पर हुए हमले के विरोध में एकजुट हुआ भारतीय समुदाय

इन श्रद्धांजलि सभाओं में शामिल भारतीयों का कहना था कि आतंकवादियों की संकल्प शक्ति भारत, अमेरिका और इजराइल में रहने वालों अच्छे लोगों की संकल्प ​शक्ति से बड़ी नहीं है। इसलिए हम कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहेंगे और आतंकवाद को हराने की प्रतिबद्धता पर एकजुट रहेंगे।

अमेरिकी सैनिकों पर हुए हमले के विरोध में एकजुट हुआ भारतीय समुदाय

अमेरिका में भारतीय समुदाय ने मिलकर रविवार को एक राष्ट्रव्यापी आयोजन किया, जिसमें उन्होंने मोमबत्ती जलाकर काबुल हमले में शहीद हुए अमेरिकी सैनिकों व अन्य सदस्यों को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर #IndianAmericansagainstTerror भी ट्वीटर पर ट्रेंड कर रहा था। यह कार्यक्रम वाशिंगटन डीसी, न्यूयॉर्क, न्यू जर्सी, सैन फ्रांसिस्को, लॉस एंजिल्स, अटलांटा, ह्यूस्टन, बोस्टन, डलास, शिकागो, कोलंबस और कनेक्टिकट में आयोजित किया गया।

भारतीय समुदाय ने उन सैन्य कर्मियों के परिवारों के साथ अपनी पूरी एकजुटता व्यक्त की, जिनके अपनों ने काबुल हादसे में जान गंवाई या आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में हताहत हुए। काबुल हादसे की जिम्मेदारी पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी समूह ISIS-K ने ली थी। पिछले 20 वर्षों में भारत और अमेरिकी सैन्य कर्मियों को निशाना बनाने वाले अधिकांश आतंकवादी समूहों को पाकिस्तान के आईएसआई द्वारा प्रशिक्षित और समर्थित किया गया है।