भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में डोरस्टेप डिलीवरी के लिए तैयार जयपुर फुट यूएसए

वैन एक दिन में कम से कम सात लोगों को कृत्रिम अंग लगाने में सक्षम है और यह मशीनों से लैस है। यह जयपुर फुट यूएसए/बीएमवीएसएस द्वारा समाज के सबसे निचले तबके के लोगों की प्रोस्थेटिक्स फिटमेंट समस्याओं को दूर करने का एक अभिनव प्रयास है।

भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में डोरस्टेप डिलीवरी के लिए तैयार जयपुर फुट यूएसए

प्रसिद्ध जयपुर फुट अब डोरस्टेप डिलीवरी के लिए तैयार है। एक वर्चुअल कार्यक्रम में 'मोबाइल वैन फॉर प्रोस्थेटिक्स फिटमेंट' को लांच किया गया। कोविड महामारी के इस दौर में गांवों में लोगों की मदद करने के लिए यह पहल शुरू की गई है।

हाई स्कूल के 17 वर्षीय छात्र और जयपुर फुट यूएसए के युवा समन्वयक निखिल मेहता ने मोबाइल वैन की परिकल्पना तैयार की जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की मदद की जा सके। 

जयपुर फुट यूएसए द्वारा हाल ही में शुरू की गई इस पहल को स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान के संस्थापक चांसलर डॉ. एचआर नागेंद्र और भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति (बीएमवीएसएस) के संस्थापक और मुख्य संरक्षक डीआर मेहता ने हरी झंडी दिखाई। कार्यक्रम का संचालन पीयूष पारिख ने किया।