जब रूसियों ने कंधे पर उठा ली थी भारत के इस शोमैन की गाड़ी

राज कपूर की लोकप्रियता सिर्फ भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में थी, लेकिन रूस में उनकी दीवानगी ने कर दी थीं हदें पार। राज साहब का मुस्कुराता हसीन चेहरा आज की पीढ़ी के जहन में भी बिल्कुल ताजा है। उनकी दमदार अदाकारी का ही असर था कि आज उन्हें शोमैन के नाम से याद किया जाता है।

जब रूसियों ने कंधे पर उठा ली थी भारत के इस शोमैन की गाड़ी
Photo by Brian McGowan / Unsplash

भारतीय सिनेमा में आज के दौर में कपूर खानदान एक बहुत ही प्रतिष्ठित परिवार माना जाता है जिसने एक से बढ़कर एक फिल्मी सितारे इस दुनिया को दिए। ऋषि कपूर से लेकर रणबीर कपूर तक, रणधीर कपूर से लेकर करीना कपूर तक, इस परिवार की कई पीढ़ियां फिल्म जगत में अपनी छाप छोड़ चुकीं हैं।

लेकिन कपूर खानदान को कपूर खानदान बनाने का श्रेय अगर किसी को जाता है तो वह कोई और नहीं बल्कि हिन्दी फिल्म जगत के सबसे बड़े सितारों में से एक राज कपूर हैं। राज कपूर ना सिर्फ कपूर खानदान के, बल्कि पूरी दुनिया के उन अदाकारों में शुमार हैं जो अपनी मृत्यु के इतने सालों बाद भी लोगों के दिलों में जिंदा हैं। अनाड़ी फ़िल्म के संगीत ‘किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार, किसी का दर्द मिल सके तो ले उधार’ के बोल गुनगुनाते हुए राज साहब का वह मुस्कुराता हसीन चेहरा आज की पीढ़ी के जहन में भी बिल्कुल ताजा है। उनकी दमदार अदाकारी का ही असर था कि आज उन्हें शोमैन के नाम से याद किया जाता है।