यारी जिंदाबाद: लॉकडाउन में अपने रेस्तरां को बचाया भी और कमाया भी, पढ़ें

भारतीय रेस्तरां मालिकों के अनुसार महामारी के बाद अमेरिकी अर्थव्यवस्था के खुलने के बावजूद चुनौतियां बनी हुई हैं। सौभाग्य से हम डिलिवरी सिस्टम को मजबूत करने और अपने खर्चों को सही तरह से प्रबंधन करने की वजह से अन्य रेस्तरां की तरह महामारी की चपेट में नहीं आए।

यारी जिंदाबाद: लॉकडाउन में अपने रेस्तरां को बचाया भी और कमाया भी, पढ़ें

जहां एक तरफ कोरोना महामारी के दौर में होटल व रेस्तरां सेक्टर को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ, वहीं अमेरिका में इस संकट के दौरान दो दोस्तों का रेस्तरां इसके विपरीत रहा। उनका रेस्तरां ना सिर्फ चला, बल्कि उन्होंने अपने रेस्तरां को लॉकडाउन के दौरान घर में बैठे आम लोगों के लिए आशा की किरण के रूप में पेश किया।

शंकर और प्रेमनाथ, जिन्होंने साल 2019 में विर्जिनिया के एलेक्जेंडर में "स्पाइस क्राफ्ट इंडियन बिस्त्रो नाम से अपना रेस्तरां शुरू किया

इन दोस्तों के नाम हैं शंकर और प्रेमनाथ, जिन्होंने साल 2019 में विर्जिनिया के एलेक्जेंडर में "स्पाइस क्राफ्ट इंडियन बिस्त्रो नाम से अपना रेस्तरां शुरू किया जो देसी कम्युनिटी यानी भारतीय समुदाय के लोगों के लिए भारतीय खाने का एक प्वाइंट बनकर उभरा।