सस्ते मकान, टैक्स में छूट व अन्य वजहों से इटली बन रहा है भारतीयों की पसंद!

इटली की सुपरबोनस योजना के तहत इटली में घर खरीदने वालों को कुछ घरेलू नवीनीकरण से जुड़े खर्च पर 110 फीसदी तक के टैक्स ब्रेक का लाभ मिलता है। इसके अलावा सौर उर्जा के पैनल, इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग पॉइंट और अन्य ऊर्जा दक्षता जैसी परियोजनाओं के लिए भी इटली प्रशासन क्रैडिट देने का काम करती है।

सस्ते मकान, टैक्स में छूट व अन्य वजहों से इटली बन रहा है भारतीयों की पसंद!
Photo by Mathew Schwartz / Unsplash

प्रवास के लिए दशकों से अमेरिका और ब्रिटेन भारतीयों की नजरों पर शीर्ष पर रहे हैं। लेकिन अमेरिका की आव्रजन नीतियां अनुकूल होती न देख भारतीयों ने ऐसे देश भी तलाशने शुरू कर दिए हैं जहां उनका रहने और काम के लिए स्वागत किया जाए। यानी जहां नीतियों में वो छूट हों जो ​अमेरिका और ब्रिटेन नहीं दे पा रहे हैं। ऐसे में दुनिया को पिज्जा और पास्ता देने वाला इटली भारतीयों की नजरों पर चढ़ा हुआ है। इसकी प्रमुख वजह इटली प्रशासन द्वारा इटालियन आप्रवास नीतियों में किए गए बदलाव बताए जा रहे हैं।

आंकड़े बताते हैं कि इटली में आप्रवासियों की दिलचस्पी तेजी से बढ़ रही है। अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर स्थित इमिग्रेशन लॉ फर्म डेविस एंड एसोसिएट्स एलएलसी ने एक न्यूज वेबसाइट को बताया कि अमेरिका में बसे भारतीयों की ओर से काफी संख्या में वन यूरो होम्स के बारे में पूछताछ आ रही हैं। दरअसल इटली की सुपरबोनस योजना और वन यूरो होम्स ने भारतीयों के बीच दिलचस्पी पैदा कर दी है। यही वजह है कि साल 2019 में भारतीयों को 1,60,000 इटली रेजिडेंसी परमिट जारी किए गए थे। यह दुनिया में पांचवे नंबर पर सबसे अधिक थे। साल 2020 में इटली यूरोप में भारतीयों की आबादी वाला दूसरा सबसे बड़ा देश बना। साल 2020 में इटली में लगभग 2 लाख भारतीय थे।