इस मामले में पड़ोसी देशों से क्यों पीछे रह गया भारत?

ग्लोबल हंगर इंडेक्स यानी जीएचआई ने बताया कि आयरिश सहायता एजेंसी कंसर्न वर्ल्डवाइड और जर्मन संगठन वेल्ट हंगर हिल्फ द्वारा संयुक्त रूप से तैयार की गई रिपोर्ट में भारत में भूख के स्तर को खतरनाक बताया गया है।

इस मामले में पड़ोसी देशों से क्यों पीछे  रह गया भारत?
Photo by Joshua Watson / Unsplash

ग्लोबल हंगर इंडेक्स (जीएचआई) यानी वैश्विक भूख सूचकांक की ताजा रिपोर्ट जारी हुई है। 116 देशों पर तैयार की गई इस रिपोर्ट में भारत की रैंकिंग 101वें स्थान पर है जो पिछले साल 94वें थी। ध्यान देने वाली बात यह है कि भारत इस सूची में पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी पीछे हो गया है।

Developing nation for the past 60 years.
रिपोर्ट के अनुसार भारत में लोग कोविड-19 और भारत में महामारी संबंधी प्रतिबंधों से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। Photo by Karthikeyan K / Unsplash

रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ 15 देश ​ऐसे हैं जिनका प्रदर्शन भारत से भी खराब रहा है। इनमें पापुआ न्यू गिनी (102), अफगानिस्तान (103), नाइजीरिया (103), कांगो (105), मोजाम्बिक (106), सिएरा लियोन (106), तिमोर-लेस्ते (108), हैती (109), लाइबेरिया (110), मेडागास्कर (111), डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो (112), चाड (113), सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक (114), यमन (115) और सोमालिया (116) हैं।