कोर्ट-कचहरी से नहीं छूट रहा पीछा, अब ललित मोदी पर क्या आरोप लगे?

कोर्ट में गुरप्रीत ने आरोप लगाया कि ललित मोदी ने उन्हें 'आयन केयर' में 14 करोड़ रुपये का निवेश करने के लिए राजी किया। जिसके बाद उन्होंने करीब 7 करोड़ रुपये का निवेश किया। बाकी का रकम निवेश नहीं किए गए, क्योंकि कंपनी का कारोबार कभी शुरू ही नहीं हुआ।

कोर्ट-कचहरी से नहीं छूट रहा पीछा, अब ललित मोदी पर क्या आरोप लगे?

क्रिकेट की इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी ने भारत में कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए देश छोड़ दिया था और लंदन में जाकर बस गए। लेकिन कोर्ट-कचहरी का चक्कर उनका पीछा नहीं छोड़ रहा है। ललित मोदी पर भारत की मॉडल से निवेशक बनीं गुरप्रीत गिल ने मुकदमा दायर किया है। गुरप्रीत ने ललित मोदी से मुआवजे की मांग की है। बता दें कि ललित मोदी आईपीएल से जुड़े घोटालों एवं विवादों के बीच साल 2010 में भारत से लंदन चले गए थे। उन्होंने इन तमाम आरोपों से इनकार किया है।

इस मामले में गुरप्रीत की तरफ से लंदन हाई कोर्ट में केस दायर किया गया है। गुरप्रीत गिल के दावे के मुताबिक पूर्व आईपीएल अध्यक्ष ने उन्हें अपनी कंपनी ‘आयन केयर’ में निवेश करवाने के लिए गुमराह किया है। गिल ने आरोप लगाया है कि मोदी ने उन्हें भरोसा दिलाया कि प्रिंस एंड्रयू, संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान और थाईलैंड के पूर्व पीएम थाकसिन शिनावात्रा जैसे विश्व नेताओं ने उनकी कंपनी में निवेश किया था। गुरप्रीत का दावा है 13 से 14 अप्रैल, 2018 के बीच दुबई के फोर सीजन्स होटल में उनके पति डेनियल के साथ ललित मोदी की चार घंटे की मीटिंग हुई थी।