प्रवासियों के टैलेंट, आइडिया और एनर्जी के चलते ही Indo-America में बने बेहतर संबध

इंडियास्पोरा के इस आयोजन में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू भी शामिल हुए, साथ ही भारत में अमेरिका के अंतरिम राजदूत अतुल कश्यप भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि अमेरिकी कांसुलर सेवा में भारतीय अमेरिकियों की बढ़ती संख्या और उनकी अविश्वसनीय भूमिका से अमेरिका और भारत के बीच लगातार अच्छे संबंध बन रहे हैं।

प्रवासियों के टैलेंट, आइडिया और एनर्जी के चलते ही Indo-America में बने बेहतर संबध

अमेरिका के वाशिंगटन डीसी शहर में भारतीय प्रवासियों के लिए एक यादगार शाम रही। वाशिंगटन के फियोला मारे में अमेरिका में प्रवासी भारतीयों की प्रमुख संस्था 'इंडियास्पोरा' द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें काफी संख्या में अमेरिका में रहने वाले जाने-माने और प्रभावी भारतीय प्रवासियों ने शिरकत की।

आयोजन में भारतीय दूतावास से राजदूत तरनजीत सिंह संधू भी शामिल हुए, साथ ही भारत में अमेरिका के अंतरिम राजदूत अतुल कश्यप भी मौजूद थे। बुधवार  29 सितंबर की शाम के इस आयोजन में अतुल कश्यप ने कहा कि अमेरिकी कांसुलर सेवा में भारतीय अमेरिकियों की बढ़ती संख्या और उनकी अविश्वसनीय भूमिका से अमेरिका और भारत के बीच लगातार अच्छे संबंध बन रहे हैं।

अतुल कश्यप ने जानकारी दी कि जब मैं साल 1994 में स्टेट डिपार्टमेंट से जुड़ा, उस वक्त ​सिर्फ दो भारतीय अमेरिकी थे जो फॉरेन सर्विस आफिसर के तौर पर काम कर रहे थे। आप यकीन मानेंगे आज भारतीय अमेरिकियों की यही संख्या बढ़कर सैंकड़ों में पहुंच चुकी है।