बीते पांच वर्षों में 6 लाख से अधिक भारतीयों ने छोड़ दी देश की नागरिकता

दूसरी ओर पिछले पांच वर्षों के दौरान पाकिस्तान से कुल 7782, अफगानिस्तान से 795, अमेरिका से 227 और बांग्लादेश से 184 लोगों ने भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन किया था। इसी अवधि के दौरान 4,177 व्यक्तियों को भारतीय नागरिकता दी गई थी।

बीते पांच वर्षों में 6 लाख से अधिक भारतीयों ने छोड़ दी देश की नागरिकता
Photo by Charu Chaturvedi / Unsplash

लगभग 6.08 लाख भारतीयों ने पिछले पांच वर्षों (साल 2017 से 2021) के बीच अपनी भारतीय नागरिकता छोड़ दी है। यह जानकारी भारत सरकार ने संसद में दी। यह आंकड़ा इस साल 30 सितंबर तक इकट्ठा किया गया है। सरकार का यह भी कहना है कि भारत की लगभग 1 फीसदी आबादी विदेश में रहती है।

मोदी सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने संसद के निचले सदन लोकसभा में एक सवाल के जवाब में यह आंकड़ा पेश किया था। सरकार द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों के अनुसार वर्तमान में 1.33 करोड़ से अधिक भारतीय विदेश में रह रहे हैं। आंकड़ों के अनुसार साल 2017 में 1.33 लाख भारतीयों ने नागरिकता छोड़ी। इसके अलावा 2018 में 1.34 लाख, 2019 में 1.44 लाख, 2020 में 85,248 और इस साल 30 सितंबर तक 1.11 लाख नागरिकता छोड़ी है। हालांकि सरकार ने बड़ी संख्या में भारतीयों द्वारा अपनी नागरिकता ​के आत्मसमर्पण का कारण नहीं बताया है।