'चीन से मुकाबले के लिए बाइडेन प्रशासन भारत को दे इस तरह के हथियार'

रो खन्ना ने पिछले दिनों भारतीय अमेरिकी कम्युनिटी के नेता अजय भुटोरिया के साथ एक बैठक के बाद यह बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में होने के नाते से मैं इस पहल का समर्थन करता हूं कि अमेरिका भारत को अपनी सीमा पर चीन के खिलाफ खुद को बचाने के लिए अधिक रणनीतिक हथियार मुहैया कराए।

'चीन से मुकाबले के लिए बाइडेन प्रशासन भारत को दे इस तरह के हथियार'

भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद के लेकर भारतीय-अमेरिकी कांग्रेसी रो खन्ना ने बाइडेन प्रशासन को भारत की मदद करने की वकालत की है। उनका कहना है कि बाइडेन प्रशासन भारत कोअधिक से अधिक हथियार उपलब्ध कराए ताकि वह चीन के खिलाफ अपनी रक्षा कर सके।

रो खन्ना ने पिछले दिनों भारतीय अमेरिकी कम्युनिटी के नेता अजय भुटोरिया के साथ एक बैठक के बाद यह बयान दिया है। उन्होंने कहा कि मैं यह सुनिश्चित करने के तरीके खोजना जारी रखूंगा कि भारत रूस के बजाय अमेरिकी हथियार चुने। इसके अलावा भारतीय अमेरिकी कांग्रेसी खन्ना ने कहा कि कांग्रेस में होने के नाते से मैं इस पहल का समर्थन करता हूं कि अमेरिका भारत को अपनी सीमा पर चीन के खिलाफ खुद को बचाने के लिए अधिक रणनीतिक हथियार मुहैया कराए।

खन्ना ने अजय भुटोरिया के साथ भारतीय अमेरिकी रिश्तों को लेकर कई अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की। दोनों नेताओं के बीच मुख्य तौर पर चर्चा के केंद्र में यह मुद्दे अहम थे कि कैसे दोनों देशों के बीच पीपल टू पीपल, बिजनेस टू बिजनेस और इंडस्ट्री टू इंडस्ट्री स्तर पर भी एक दूसरे से बेहतर संबंध बन पाएं।

अजय भुटोरिया ने कहा कि दोनों लोकतांत्रिक देशों भारत और अमेरिका को वैश्विक स्थिरता के लिए और विशेष रूप से हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति बनाए रखने के लिए एक-दूसरे की आवश्यकता है। ऑस्ट्रेलिया, जापान, भारत और अमेरिका द्वारा बनाया गया क्वाड चीन के प्रभाव को संतुलित करने और चीन के प्रभाव का मुकाबला करने में एक मजबूत भूमिका निभा रहा है। अमेरिका को रक्षा क्षेत्र में भारत के साथ एक मजबूत साझेदारी बनाने और भारत को आवश्यक हथियारों की आपूर्ति करने की आवश्यकता है।