बड़ी सुविधा: UAE में भी अब यूपीआई से भुगतान कर सकेंगे भारतीय पर्यटक

एनआईपीएल की ओर से गुरुवार को जारी एक बयान में कहा गया कि इस पहल से उन लाखों भारतीयों को राहत मिलेगी जो यूएई की यात्रा करते हैं। अब वह यूएई में भी सुरक्षित तरीके से और आसानी से भीम यूपीआई का उपयोग करते हुए भुगतान कर सकेंगे।

बड़ी सुविधा: UAE में भी अब यूपीआई से भुगतान कर सकेंगे भारतीय पर्यटक

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) की अंतरराष्ट्रीय इकाई एनपीसीआई इंटरनेशनल पेमेंट्स लिमिटेड (NIPL) ने संयुक्त अरब अमीरात (UAE) जाने वाले भारतीय पर्यटकों के लिए बड़ी घोषणा की है। नए फैसले के तहत भारत का भीम यूपीआई (BHIM UPI) अब पूरे यूएई में नियोपे (NEOPAY) टर्मिनल्स पर चालू हो गया है। इससे पहले नेपाल भी डिजिटल भुगतान के लिए यूपीआई अपना चुका है।

एनआईपीएल की ओर से गुरुवार को जारी एक बयान में कहा गया कि इस पहल से उन लाखों भारतीयों को राहत मिलेगी जो यूएई की यात्रा करते हैं। अब वह यूएई में भी सुरक्षित तरीके से और आसानी से भीम यूपीआई का उपयोग करते हुए भुगतान कर सकेंगे। यूएई में यूपीआई से भुगतान की सेवा शुरू करने के लिए एनआईपीएल और मशरिक बैंक की भुगतान सब्सिडियरी नियोपे ने पिछले साल भागीदारी की थी।

यूएई में यूपीआई से भुगतान शुरू होने से भारतीय पर्यटक उन सभी दुकानों और स्टोर पर यूपीआई एप के जरिए भुगतान कर सकेंगे जो नियोपे से जुड़े हुए हैं। इस भागीदारी को लेकर एनआईपीएल के सीईओ रितेश शुक्ला ने कहा कि हम डिजिटल भुगतान को सरल बनाने को लेकर लगातार काम कर रहे हैं। हम यूपीआई के लिए एक विशाल और वैश्विक रूप से स्वीकृत नेटवर्क विकसित करने के प्रति समर्पित हैं।

भारतीय पर्यटक उन सभी दुकानों और स्टोर पर यूपीआई एप के जरिए भुगतान कर सकेंगे जो नियोपे से जुड़े हुए हैं।

वहीं, नियोपे के सीईओ विभोर मुंधड़ा ने कहा कि एनआईपीएल के साथ हमारी साझेदारी हमारे ग्राहकों के लिए अभिनव भुगतान समाधान प्रदान करने और उन्हें संपन्न डिजिटल अर्थव्यवस्था का पूरा लाभ उठाने की अनुमति देने के लिए नवीनतम अत्याधुनिक तकनीक का लाभ उठाने की हमारी प्रतिबद्धता का सबूत है। उन्होंने कहा कि इस पहल से भारतीय पर्यटकों को यूएई में भुगतान का अलग अनुभव होगा।

बता दें कि यूपीआई अंतर-बैंक लेन-देन के ली सुविधा के लिए एनपीसीआई की ओर से विकसित एक रियल टाइम भुगतान प्रणाली है। मोबाइल आधारित यह भुगतान व्यवस्था इस समय डिजिटल भुगतान के सबसे प्रमुख रूपों में से एक बन गई है। वित्त वर्ष 2022 में यूपीआई के जरिए 45.6 अरब लेन-देन किए गए थे। यह पूरी दुनिया में सबसे शानदार प्रदर्शन करने वाला एक रियल टाइम इकोसिस्टम बन गया है।