भारत में पेटेंट आवेदन की रफ्तार बढ़ी, लेकिन अमेरिका और चीन से अभी काफी पीछे है

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह रफ्तार तेज है लेकिन अगर अमेरिका से तुलना करें तो हम पहुंच पीछे हैं। साल 2018 में अमेरिका ने तीन लाख से अधिक पेटेंट को अनुमति दी थी। रिपोर्ट के अनुसार उत्पादन के क्षेत्र में पेटेंट आवेदन की कम संख्या के पीछे एक वजह इसे मिलने वाली अपर्याप्त सुरक्षा भी है।

भारत में पेटेंट आवेदन की रफ्तार बढ़ी, लेकिन अमेरिका और चीन से अभी काफी पीछे है
Photo by Markus Winkler / Unsplash

भारत की एक संसदीय समिति ने कहा है कि देश में लोगों और संगठनों के लिए दाखिल किए जा रहे पेटेंट की संख्या तेजी से बढ़ रही है। लेकिन अभी भी इस अहम क्षेत्र में वह अमेरिका और चीन से पीछे है।

इस समिति के अध्यक्ष वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सांसद विजयसाई रेड्डी हैं।

समिति ने भारत सरकार से कहा है कि नए ज्ञान के निर्माण में भारत को शीर्ष देशों में शामिल करने के लिए कुछ श्रंखलाबद्ध कदम उठाने सुनिश्चित करे। यह सुझाव वाणिज्य पर संसद की स्थायी समिति की ओर से पिछले सप्ताह पेश की रिपोर्ट में दिए गए हैं।