Skip to content

न्यूजीलैंड में मंत्री प्रियंका राधाकृष्णन को कैबिनेट रैंक में पदोन्नत किया गया

चेन्नई में जन्मी राधाकृष्णन एक अंतरराष्ट्रीय छात्र के रूप में न्यूजीलैंड चली गईं थी। हालांकि उन्हें एक नए देश में एक युवा अप्रवासी के तौर पर चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन वह उन चुनौतियों को अपने क्षितिज पर पहुंचने के पीछे का प्रमुख कारण बताती हैं।

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल के हिस्से के रूप में भारतीय मूल की मंत्री प्रियंका राधाकृष्णन को अपने कैबिनेट में जगह दी है। अर्डर्न ने प्रियंका को पदोन्नत करते हुए कैबिनेट रैंक का मंत्री बनाया है। प्रियंका ऑकलैंड के मौंगकीकी से सांसद हैं और नवंबर 2020 से समुदाय और स्वैच्छिक क्षेत्र, विविधता, समावेश और जातीय समुदायों और युवाओं के लिए मंत्री के विभागों के साथ-साथ कार्यस्थल संबंधों और सुरक्षा के लिए सहयोगी मंत्री का एक अतिरिक्त कार्यभार संभाल रही हैं।

चेन्नई में जन्मी राधाकृष्णन एक अंतरराष्ट्रीय छात्र के रूप में न्यूजीलैंड चली गईं थी। हालांकि उन्हें एक नए देश में एक युवा अप्रवासी के तौर पर चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन वह उन चुनौतियों को अपने क्षितिज पर पहुंचने के पीछे का प्रमुख कारण बताती हैं। वह इस अवसर के लिए माता-पिता को हमेशा धन्यवाद करती हैं। उन्होंने पिछले साल एक साक्षात्कार में एक भारतीय समाचार पत्र को बताया कि चुनौतियां रही हैं लेकिन अविश्वसनीय अवसर भी हैं।

प्रियंका कहती हैं कि वह अपनी भारतीय विरासत को इस विश्वास के साथ स्वीकार करती हैं कि इसने उनके दृष्टिकोण को कई तरह से आकार दिया है। उन्होंने कहा कि मैं एक ऐसे परिवार में पली-बढ़ी हूं जहां मैंने अपने माता-पिता और दादा-दादी को सामाजिक न्याय के मूल्यों और सभी के साथ सहज सम्मान के साथ व्यवहार करने के महत्व को देखा है। चाहे वे कोई भी हों और वे कहां से आए हों। इसने मेरे राजनीतिक विश्वासों को किसी भी चीज से अधिक प्रेरित किया है।

प्रियंका राधाकृष्णन कई वर्षों तक एक सामुदायिक कार्यकर्ता के तौर पर काम करती रहीं। इसके बाद वह साल 2006 में न्यूजीलैंड लेबर पार्टी में शामिल हुईं। वह कहती हैं कि न्यूजीलैंड में दक्षिण एशियाई समुदाय जीवंत, विविध, मजबूत और पूरे देश में फैली हुई लगभग हर क्षेत्र में योगदान देती है। विविधता, समावेश और जातीय समुदायों के मंत्री के रूप में वह एक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम का नेतृत्व कर रही है कि न्यूजीलैंड के लिए सामाजिक सामंजस्य का क्या अर्थ है और इसे कैसे प्राप्त किया जा सकता है। राधाकृष्णन 2021 में भारत सरकार के प्रवासी सम्मान प्राप्त करने वालों में से एक थीं।

Latest