सात साल बाद परिवार से मिलने जाने वाले थे भारत, हादसे ने छीन ली जिंदगी

तजिंदर के बचपन के दोस्त जिप्पी सिंह ने कहा कि सात साल पहले न्यूजीलैंड आने के बाद से वह वापस भारत नहीं जा पाए थे। इतने दिनों तक वह अपने परिवार से दूर थे। न्यूजीलैंड में स्थायी नागरिकता मिलने के बाद वह घर जाने की योजना बना रहे थे। लेकिन हमारे लिए यह अत्यंत ही दुखद है कि अब उनका पार्थिव शरीर घर जाएगा।

सात साल बाद परिवार से मिलने जाने वाले थे भारत, हादसे ने छीन ली जिंदगी

न्यूजीलैंड में रहने वाले तजिंदर सिंह सात साल बाद अपने परिवार से मिलने के लिए भारत जाने की योजना बना रहे थे। लेकिन शायद किस्मत उन पर इतनी मेहरबान नहीं थी। एक कार दुर्घटना में उनकी मौत हो गई। न्यूजीलैंड पुलिस ने शुक्रवार को क्वीन्सटाउन के पास हुए हादसे में तजिंदर की मौत की जानकारी दी।

पुलिस का कहना है कि 15 अप्रैल की शाम छह बजे किंग्स्टन रोड पर दो कारों की टक्कर हुई थी। इस हादसे में 27 साल के तजिंदर सिंह की मौत हो गई। हादसे में एक शख्स घायल है। पुलिस इस हादसे की जांच कर रही है।

तजिंदर के बचपन के दोस्त जिप्पी सिंह ने कहा कि सात साल पहले न्यूजीलैंड आने के बाद से वह वापस भारत नहीं जा पाए थे। इतने दिनों तक वह अपने परिवार से दूर थे। न्यूजीलैंड में स्थायी नागरिकता मिलने के बाद वह घर जाने की योजना बना रहे थे। अगले महीने वह भारत जाने की तैयारी कर रहे थे। लेकिन हमारे लिए यह अत्यंत ही दुखद है कि अब उनका पार्थिव शरीर घर जाएगा। तजिंदर भारत के पंजाब क्षेत्र में आदमपुर के निकट कालरा गांव के रहने वाले थे। उनके पिता स्थानीय सरपंच हैं। जिप्पी सिंह का कहना है कि मैं कल्पना नहीं कर सकता कि उनके माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के लिए यह कितना कठिन वक्त है।

जिप्पी सिंह ने कहा कि तजिंदर सिंह एक शानदार व्यक्ति थे जो मेरे लिए एक छोटे भाई की तरह थे। वह कभी जल्दबाजी में नहीं रहते और उनका स्वभाव बहुत ही विनम्र था। जिप्पी के मुताबिक उनका दोस्त एक शाकाहारी था जो फिटनेस पर बहुत ध्यान रखते थे। एक बिल्डर के रूप में काम पर जाने से पहले साइकिल चलाने और जिम जाने के शौकीन थे। इसके लिए वह रोज सुबह 4.30 बजे उठ जाते थे।