UK: 121 महिलाओं को डराने और पीछा करने वाले विशाल को मिली यह सजा

विशाल इंटरनेट के माध्यम से पीड़िताओं के पीछे पड़ा हुआ था और उन्हें हिंसा का डर दिखा रहा था। कई अन्य मौकों पर विशाल ने पीड़ितों की तस्वीरें उनकी पर्सनल सोशल मीडिया प्रोफाइल से लीं और उन्हें अपने कमेंट के साथ प्रकाशित किया और जिसमें कहा गया था कि उसने पीड़िता के साथ यौन संतुष्टि का आनंद लिया।

UK: 121 महिलाओं को डराने और पीछा करने वाले विशाल को मिली यह सजा

यूके में 28 वर्षीय भारतीय मूल के एक शख्स को 121 महिलाओं व लड़कियों को ऑनलाइन स्टॉक यानी पीछा करने के 7 मामलों में दो साल और आठ महीने की सजा सुनाई गई है। विशाल विजापुरा नाम के इस शख्स को दक्षिण लंदन के क्रॉयडन क्राउन कोर्ट में सजा सुनाई गई और पांच साल की अवधि के लिए यौन उत्पीड़न रोकथाम आदेश भी मिला। इस आदेश के तहत विशाल की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाए जाएंगे।

विशाल ने पीड़ितों के साथ बलात्कार को सही ठहराने का प्रयास करने वाला एक छोटा निबंध भी डाला था। 

विशाल इंटरनेट के माध्यम से पीड़िताओं के पीछे पड़ा हुआ था और उन्हें हिंसा का डर दिखा रहा था। स्कॉटलैंड यार्ड के साउथ एरिया पब्लिक संरक्षण इकाई के डिटेक्टिव इंस्पेक्टर पॉल स्मिथ ने बताया कि इस मामले पर काम कर रहे अधिकारियों के समर्पण और प्रतिबद्धता के चलते अब​ विशाल इन पीड़ितों को नहीं डरा पाएगा। पीड़ितों में से कुछ ने पुलिस से संपर्क किया है जो विशाल से मिली धमकियों के बाद अकेले बाहर निकलने से डरती थीं। उन्होंने कहा कि इस तरह की आपराधिकता खतरनाक और आक्रामक है और इसे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पॉल ने कहा कि मामले में पीड़ितों ने आगे आने में बहुत ताकत दिखाई है। उन्होंने जांच का समर्थन किया है और इस बात का सबूत दिया है कि कैसे विशाल के गलत व्यवहार ने उनके जीवन को गहराई से प्रभावित किया है। मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने कहा कि जनवरी 2021 में उनके संज्ञान में विशाल द्वारा डाली गई पीड़ितों की पर्सनल डिटेल की सूची आई थी जिसे विशाल ने ऑनलाइन पोस्ट किया हुआ था। इसके अलावा विशाल ने पीड़ितों के साथ बलात्कार को सही ठहराने का प्रयास करने वाला एक छोटा निबंध भी डाला था। कई अन्य मौकों पर विशाल ने पीड़ितों की तस्वीरें उनकी पर्सनल सोशल मीडिया प्रोफाइल से लीं और उन्हें अपने कमेंट के साथ प्रकाशित किया और जिसमें कहा गया था कि उसने पीड़िता के साथ यौन संतुष्टि का आनंद लिया।

मेट पुलिस ने कहा कि विशाल ने उनके व्यक्तिगत विवरण के साथ उनके खिलाफ गंभीर यौन हिंसा को प्रोत्साहित करते हुए ऑनलाइन पोस्ट भी प्रकाशित किए। उसने कई पीड़ितों को सीधे यौन विषयों पर भद्दे मैसेज भी भेजे थे। ऑनलाइन सूची और संबंधित निबंध के प्रकाशन के बाद विशाल को पिछले साल 28 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था और बाद में शर्तों के साथ जमानत दे दी थी। हालांकि मार्च 2021 में विशाल को एक नए अपराध के संबंध में फिर से गिरफ्तार किया गया।