Skip to content

सिंगापुर: प्रेमिका से बार-बार करता था मारपीट, तीसरी बार में मिली सजा

जिला न्यायाधीश जेम्स एलीशा ली को अदालत में बताया गया कि पार्तिबन ने अपनी 38 वर्षीय साथी को करीब दो से तीन साल तक डेट किया। वह पिछले साल दिसंबर से 23 जनवरी तक सिंगापुर में महिला के चाचा के साथ रहा जब उसने पहली बार महिला के साथ मारपीट की।

सिंगापुर में भारतीय मूल के एक मलेशियाई नागरिक को अपनी प्रेमिका को मार-पीटकर डराने, सिम कार्ड निगलने, फोन तोड़ने, पासपोर्ट फाड़ने और अपने हाथ से गला दबाने के आरोप में सात महीने और तीन सप्ताह जेल की सजा सुनाई गई है। पार्तिबन मणियम नाम के इस शख्स की सजा 12 मार्च से तय की गई है, जब उसे गिरफ्तार कर रिमांड पर लिया गया था।

30 वर्षीय पार्तिबन मणियम पर अपने साथी को धमकाने, परेशान करने और चोट पहुंचाने का आरोप तय हुए हैं। 

30 वर्षीय पार्तिबन मणियम पर अपने साथी को धमकाने, परेशान करने और चोट पहुंचाने के आरोप तय हुए हैं। उसने हमेशा अपनी साथी के साथ नशे में गलत व्यवहार किया था। जिला न्यायाधीश जेम्स एलीशा ली को अदालत में बताया गया कि पार्तिबन ने अपनी 38 वर्षीय साथी को करीब दो से तीन साल तक डेट किया। वह पिछले साल दिसंबर से 23 जनवरी तक सिंगापुर में महिला के चाचा के साथ रहा। तब उसने पहली बार महिला के साथ मारपीट की।

फोन पर पीड़िता के साथ विवाद होने से पहले पार्तिबान 23 जनवरी को अपने दोस्तों के साथ शराब पीने के लिए निकला था। जब वह घर पहुंचा तो उसने पीड़िता पर किसी अन्य व्यक्ति के साथ रहने का आरोप लगाया और उसके साथ गाली-गलौज शुरू कर दी। मामला बढ़ा तो पार्टिबन ने अपनी प्रेमिका यानी पीड़िता को थप्पड़ और घूंसा मारा। पीड़िता के चाचा ने उसे रोका तो भी वह नहीं रुका। चाचा के फ्लैट पर पार्टिबन ने अपनी प्रेमिका के गले पर रसोई का चाकू रख दिया और उसे जान से मारने की धमकी दी। बाद में उसने लकड़ी के किचन टॉवल होल्डर से उसके सिर पर वार किया। इसके बाद पीड़िता के चाचा ने पुलिस को बुलाया।

हालांकि पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया लेकिन वह बाद में जमानत पर छूट गया। लगभग एक महीने बाद 28 फरवरी को पार्टिबन फ्लैट पर फिर वापस आया। प्रेमिका ने अंदर घुसने से मना किया तो उसने मुख्य दरवाजे पर लगे धातु को जबरदस्ती दीवार से खींचकर तोड़ दिया और फिर वह फ्लैट में घुसा, पीड़िता का फोन छीना और उसके चेहरे पर मुक्का मार दिया। दोनों के बीच वाद विवाद के दौरान उसने पीड़िता की छाती पर घरेलू चाकू रखकर तमिल में कहा कि वह उसे निश्चित रूप से मार डालेगा। बाद में उसने उसके पेट पर कैंची रख दी और उसे एक बार फिर जान से मारने की धमकी दी। महिला इतनी डर गई थी कि उसने पहले तो पार्टिबन को शांत किया और उसके कहे अनुसार जाने के लिए तैयार हो गई।

सिंगापुर के समाचारपत्र टुडे की रिपोर्ट के अनुसार वह उस पर चिल्लाता रहा, पीड़िता के कंधे पर मुक्का भी मारा और फिर पीड़िता का मलेशियाई पासपोर्ट फाड़ दिया। ऐसे में पीड़िता ने पार्टिबन से बहाना बनाया और वह थोड़ा इधर-उधर हुई और एक राहगीर को उसने तुरंत पुलिस को बुलाने के लिए कहा। पार्टिबन को गिरफ्तार कर लिया गया और एक बार फिर पुलिस जमानत पर रिहा कर दिया गया। 11 मार्च को पार्टिबन ने पीड़िता को परेशान करने के लिए उसे अपने कपड़े वापस करने के लिए कहा।

पीड़िता उसे एक बहुमंजिला कार पार्किंग में मिली, जहां पार्टिबन ने एक बार फिर उसे जान से मारने की धमकी दी। वहां भी पार्टिबन ने एक धातू पीड़िता के गले पर रख दी और उसका फोन चेक करने लगा। वह महिला पर शक करता था, इस एवज में उसने पहले तो दूसरे पुरुषों से बात करने का आरोप लगाया और बाद में महिला के फोन से सिम कार्ड निगल गया और फोन को तोड़ दिया। यहां से वह बचती बचाती पुलिस के पास गई और अपनी आप-बीती सुनाई। आखिरकार पार्टिबन को सात महीने की सजा सुनाई गई है।

Latest