दक्षिण अफ्रीका की सर्वोच्च न्यायिक पीठ में नियुक्त किए भारतीय मूल के नरेंद्रन

नरेंद्रन कोलप्पन ने वकालत की शुरुआत 1982 में की थी। अप्रैल 2016 में उन्हें दक्षिण अफ्रीकी कानून सुधार आयोग के अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी गई थी। उन्हें कई अंतरराष्ट्रीय मंचों पर मानवाधिकारों पर चर्चा के लिए बुलाया जाता रहा है।

दक्षिण अफ्रीका की सर्वोच्च न्यायिक पीठ में नियुक्त किए भारतीय मूल के नरेंद्रन

भारतीय मूल के नरेंद्रन जोडी कोलप्पन को दक्षिण अफ्रीका की सर्वोच्च न्यायिक पीठ संवैधानिक अदालत (Constitutional Court) में नियुक्त किया गया है। बता दें कि राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा ने हाल ही में 64 वर्षीय नरेंद्रन कोलप्पन और राम्मका स्टीवन मथोपो की देश की संवैधानिक अदालत में नियुक्ति का एलान किया था।

संवैधानिक अदालत में रिक्त दो पदों के लिए कोलप्पन और राम्मका के नाम उन पांच उम्मीदवारों में शामिल थे, जिनके नामों की सिफारिश इस साल अक्तूबर में राष्ट्रपति से की गई थी। अब राष्ट्रपति की ओर से अनुमति मिलने के बाद दोनों एक जनवरी 2022 से अपनी नई जिम्मेदारी संभालेंगे। कोलप्पन का इससे पहले संवैधानिक अदालत के लिए दो बार साक्षात्कार लिया जा चुका था, लेकिन वह असफल रहे थे।