भारतीय क्रिकेट फैंस पर जातिवादी टिप्पणियां, ECB ने दिए जांच के आदेश

भारतीय क्रिकेट टीम के आधिकारिक समर्थकों के समूह द भारत आर्मी ने भी इसे लेकर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। इसके आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कहा गया कि यह कहना बहुत दुखद है कि हमारे कई सदस्यों को लोगों के एक बहुत छोटे समुदाय की ओर से जातिसूचक अपमान का सामना करना पड़ा।

भारतीय क्रिकेट फैंस पर जातिवादी टिप्पणियां, ECB ने दिए जांच के आदेश

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) और वार्विकशायर काउंटी क्रिकेट क्लब ने भारत और इंग्लैंड के बीच हुए पांचवें टेस्ट मैच के दौरान भारतीय दर्शकों को लेकर की गईं अभद्र जातिवादी टिप्पणियों के दावे की जांच करने का निर्णय लिया है। यह मैच एजबैस्टन में खेला गया था और यह घटना मैच चौथे दिन की बताई जा रही है।

कई भारतीय फैंस ने सोमवार की रात खेल के चौथे दिन के दौरान हुए इस भेदभावपूर्ण व्यवहार की कड़ी निंदा की। उन्होंने आरोप लगाया कि ब्रिटेन के क्रिकेट समर्थकों ने उनका जातिसूचक अपमान किया। एक दर्शक ने इसे लेकर ट्विटर पर कहा कि हमें अपनी सुरक्षा को लेकर बहुत डर लग रहा था।

उन्होंने ट्वीट में आगे लिखा कि हमें महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा की चिंता थी लेकिन हमें किसी तरह की कोई मदद नहीं मिली। आज के समाज में इस तरह की घटना अस्वीकार्य है। उल्लेखनीय है ति यॉर्कशायर के पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी अजीम रफीक ने भी इस घटना के कुछ पोस्ट्स को सोशल मीडिया पर साझा किया है।

रफीक के ट्वीट पर एजबैस्टन के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट की ओर से प्रतिक्रिया दी। इसने कहा कि हम यह पढ़कर बहुत शर्मिंदा हैं और किसी भी तरह से इस तरह के व्यवहार का समर्थन नहीं करते हैं। हम जल्द से जल्द इसकी जांच करवाएंगे। वहीं एजबैटन के चीफ एग्जीक्यूटिव स्टुअर्ट केन ने कहा कि मैं इन रिपोर्ट्स से बहुत आहत हूं और हम एजबैटन को एक सुरक्षित और स्वागत करने वाले माहौल बनाने के लिए मेहनत से काम कर रहे हैं।

क्रिकेट क्लब की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि एजबैस्टन में किसी को भी किसी भी तरह से अपमानित करने की अनुमति नहीं है। इसलिए जब एक बार हमें सभी तथ्यों के बारे में जानकारी मिल जाएगी तब हम निश्चित तौर पर इस मामले को उचित तरीके से संबोधित करने के लिए कदम बढ़ाएंगे।

भारतीय क्रिकेट टीम के आधिकारिक समर्थकों के समूह द भारत आर्मी ने भी इसे लेकर कड़ी आपत्ति व्यक्त की है। इसके आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कहा गया कि यह कहना बहुत दुखद है कि हमारे कई सदस्यों को लोगों के एक बहुत छोटे समुदाय की ओर से जातिसूचक अपमान का सामना करना पड़ा। आर्मी ने भारतीय प्रशंसकों के साथ खड़े होने वाले इंग्लैंड के प्रशंसकों को धन्यवाद भी कहा।

वहीं ईसीबी ने इस वाकये को लेकर एक ट्वीट में कहा कि हम इस टेस्ट मैच के दौरान हुई जातिसूचक अपमान की रिपोर्ट्स को सुनकर बहुत चिंतित हैं और इसे मामले को बेहद गंभीरता के साथ लिया जा रहा है। हम एजबैस्टन में उन अधिकारियों के संपर्क में हैं जिन्हें इसकी जांच की जिम्मेदारी सौंपी गई है। ईसीबी ने कहा कि क्रिकेट की दुनिया में जातिवाद के लिए कोई जगह नहीं है।

दोनों टीमों के बीच यह मैच एक से पांच जुलाई तक चला था। मेजबान इंग्लैंड ने पांच मैचों की सीरीज के इस अंतिम मैच में भारत को सात विकेट से मात देकर सीरीज को ड्रॉ करा दिया था। इस हार के साथ भारत का सीरीज जीतने का सपना टूट गया था और मुकाबले का परिणाम 2-2 की बराबरी पर रहा था।

बता दें कि इंग्लैंड दौरे पर गई भारतीय टीम तीन टी-20 और तीन वन-डे मुकाबले भी खेलेगी। इसमें पहला टी-20 मैच सात जुलाई को, दूसरा नौ और तीसरा मैच 10 जुलाई को खेला जाएगा। वहीं पहला वन-डे 12 जुलाई को और दूसरा 14 जुलाई को होगा। वहीं तीसरे मुकाबले के लिए दोनों
टीमें 17 जुलाई को भिड़ेंगी।