फ्रांस में उड़ेंगे रंग-गुलाल, 'होली' पर प्रवासी भारतीयों का लगेगा जमावड़ा

यह कार्यक्रम भारतीयों के लिए बेहद खास होने जा रहा है क्योंकि उन्हें यहां उड़ते गुलालों के बीच बॉलीवुड के गानों पर थिरकने का मौका मिलेगा। कार्यक्रम के लिए सुबह 10 बजे ही जार्डिन डी'अक्लाईमेटेशन के दरवाजे आगंतुकों के लिए खोल दिए जाएंगे।

फ्रांस में उड़ेंगे रंग-गुलाल, 'होली' पर प्रवासी भारतीयों का लगेगा जमावड़ा
2019 में होली के रंगों के रंग गया था पैरिस

फ्रांस की राजधानी पैरिस में भारत के रंगों का त्योहार 2 साल के अंतराल के बाद लौट आया है। 2019 के बाद पहली बार यहां के जार्डिन डी'अक्लाईमेटेशन में 22 मई को उतने ही उल्लास के साथ भारत का यह लोकप्रिय त्योहार (होली) मनाया जाएगा, जैसा बीते सालों में मनाया जाता रहा है। यहां बड़ी संख्या में भारतीय समुदाय के लोग जुटने वाले हैं। उनके साथ ही यहां उन लोगों का भी जमावड़ा होगा जिन्हें रंग-गुलाल भाते हैं। आयोजकों ने फेसबुक पेज पर इस खास कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी है और लोगों से अपील की है कि वे अपने परिवार के साथ आएं ,जहां उन्हें एक दिन के लिए 'भारत के रंग' में रंगने का मौका मिलेगा।

भारतीय दूतावास ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए ट्वीट किया है, 'दो साल के बाद होली का त्योहार पैरिस में वापस आ रहा है। जार्डिन डी'अक्लाईमेटेशन में संगीत, नृत्य, रंग, व्यंजन से भरे हुए दिन का लुत्फ उठाने के लिए तैयार हो जाएं।

2019 में प्रवासी भारतीयों ने पैरिस में कुछ ऐसे मनाई थी होली। 

यह कार्यक्रम भारतीयों के लिए बेहद खास होने जा रहा है क्योंकि उन्हें यहां उड़ते गुलालों के बीच बॉलीवुड के गानों पर थिरकने का मौका मिलेगा। कार्यक्रम के लिए सुबह 10 बजे ही जार्डिन डी'अक्लाईमेटेशन के दरवाजे आगंतुकों के लिए खोल दिए जाएंगे। वहीं, आयोजक ने अपने सोशल मीडिया पोस्ट पर न्योता देते हुए लिखा, 'क्या आप होली से परिचित हैं? भारत का सबसे बड़ा पारंपरिक त्योहार, जिस दिन वसंत के आगमन का जश्न मनाने के लिए रंग-गुलाल उड़ाए जाते हैं। 22 मई की सुबह 10 बजे जार्डिन डी'अक्लाईमेटेशन में हमारे साथ जुड़िए, एक साथ मिलकर भारत के सबसे लोकप्रिय त्योहार होली का जश्न मनाइए। अपने परिवार, अपने दोस्तों के साथ आइए, हमें आपका इंतजार रहेगा।'

बता दें कि पैरिस में आयोजित होने वाली यह खास होली 2020 में कोरोना के कारण रद्द कर दी गई थी औऱ फिर अगले साल 2021 में भी आयोजित नहीं हो पाई, इसलिए  आयोजक और भारतीय समुदाय पिछले दो सालों की कमी को पूरा कर लेना चाहते हैं. यह कार्यक्रम सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक चलेगा। जश्न की शुरुआत 'महाराजा और महारानी' के शाही परेड से होगी जिसके बाद रंग-गुलाल खेला जाएगा। जिस दौरान बॉलीवुड फ्यूजन बैंड प्रस्तुति देंगे। यहां एक इंडियन विलेज भी बनाया गया है जिसमें भारत के बिंदी मेकअप, मेंहदी, आर्ट व क्राफ्ट और योग को सीखा जा सकता है।