भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने पर प्रताड़ना, भारतीय मूल की सांसद का इस्तीफा

हेराल्ड सन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक कौशल्या वाघेला उच्च सदन में एक प्रस्ताव पेश करेंगी जिसमें उनके खिलाफ उत्पीड़न और डराने-धमकाने वाले अभियान पर ध्यान देने के लिए कहा जाएगा।

भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने पर प्रताड़ना, भारतीय मूल की सांसद का इस्तीफा

ऑस्ट्रेलिया की विक्टोरियन लेबर पार्टी की तरफ से संसद के उच्च सदन की सदस्य कौशल्या वाघेला ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। वाघेला ने कुछ दिनों पहले अपनी ही पार्टी में भ्रष्टाचार के कुख्यात ‘रेड शर्ट’ मामले की जांच के पक्ष में प्रस्ताव पर मतदान किया था। इस पर पार्टी के नेता उसके खिलाफ हो गए थे। कौशल्या ने आरोप लगाया कि उन्हें धमकाया जा रहा था, प्रताड़ित किया जा रहा था। ऐसे वक्त में ऑस्ट्रेलियाई सांसद और विक्टोरिया के प्रधानमंत्री डेनियल एंड्रयूज कार्यालय ने अपनी आंखें मूंद ली थी। गौरतलब है कि कौशल्या विरजीभाई वाघेला एक ऑस्ट्रेलियाई राजनीतिज्ञ हैं। वह 2018 से लेबर पार्टी की सदस्य थीं। वह विक्टोरियन संसद की पहली भारतीय मूल की सदस्य बनी थीं।

भारत के गुजरात प्रांत में जन्मीं कौशल्या वाघेला ने ये आरोप भ्रष्टाचार के मामले में अपनी पार्टी के खिलाफ वोट करने के कुछ ही दिनों बाद लगाए। कौशल्या ने बताया कि उन्होंने अप्रैल 2019 से कई बार व्यक्तिगत रूप से और लिखित में, उन्हें धमकाने के बारे में प्रधानमंत्री डेनियल एंड्रयूज कार्यालय से शिकायत की थी। लेकिन उनके तमाम प्रयास बेकार साबित हुए। उन्होंने आरोप लगाया कि कार्यालय ने उनकी शिकायतों पर कोई ध्यान नहीं दिया और अपनी आंखें बंद कर ली।