750 करोड़ रुपये से पीछे छोड़ मुकेश अंबानी से आगे निकले अरबपति अडानी

अडानी पश्चिम भारतीय राज्य गुजरात से हैं। उन्होंने बंदरगाहों, बिजली उत्पादन और सौर ऊर्जा आदि के प्रबंधन में अपने व्यवसायों का विस्तार किया है। विपक्ष आरोप लगाता रहा है कि अडानी समूह के विकास को नरेंद्र मोदी का समर्थन प्राप्त है।

750 करोड़ रुपये से पीछे छोड़ मुकेश अंबानी से आगे निकले अरबपति अडानी

फोर्ब्स की रियल टाइम बिलियनेयर की गणना के अनुसार भारतीय कारोबारी गौतम अडानी 90.1 बिलियन डॉलर (6,73,056 करोड़ रुपये) की संपत्ति रखने वाले एशिया के एकमात्र व्यक्ति हैं। यानी वह एशिया के सबसे अमीर शख्स बन गए हैं। इसके साथ ही दुनिया में 10वें सबसे अमीर व्यक्ति भी हो गए हैं। फोर्ब्स के अनुमान के मुताबिक उन्होंने रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख और भारतीय अरबपति मुकेश अंबानी को कम से कम 100 मिलियन डॉलर यानी 747 करोड़ रुपये से पीछे कर दिया है। अडानी से पहले मुकेश अंबानी ही एशिया के सबसे अमीर अरबपति थे।

करीब 59 वर्ष की उम्र में अडानी के लिए यह एक उल्लेखनीय वृद्धि है। वह एक कॉलेज ड्रॉपआउट हैं जिन्होंने 1988 में एक कमोडिटी एक्सपोर्ट फर्म शुरू की थी। 2008 में वह फोर्ब्स की दुनिया के अरबपतियों की सूची में पहली बार दिखाई दिए थे। साल 2008 में उनकी कुल संपत्ति 9.3 बिलियन डॉलर यानी 69,467 करोड़ रुपये थी। अडानी समूह में बिजली उत्पादन और ट्रांसमिशन से लेकर खाद्य तेल, रियल एस्टेट और कोयले तक के कारोबार शामिल हैं। अडानी समूह की भारत में छह सूचीबद्ध कंपनियां हैं जिनमें से सबसे मूल्यवान अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड है जिनके शेयरों में पिछले एक साल में 77 फीसदी की वृद्धि हुई है।