इस पिज्जा के लिए दीवाना था कृष, फूड कंपनी को आखिर झुकना ही पड़ा

फास्ट-फूड की कंपनी टैको बेल ने सितंबर 2020 में शाकाहारी मैक्सिकन पिज्जा को अपनी लिस्ट से बाहर कर दिया था। इस आइटम को वापस लाने के लिए कृष ने एक अभियान चला दिया। टैको बेल ने 18 अप्रैल को मैक्सिकन पिज्जा की वापसी की घोषणा की।

इस पिज्जा के लिए दीवाना था कृष, फूड कंपनी को आखिर झुकना ही पड़ा

दुनिया में एक से एक शौकीन हैं। ये ऐसे लोग होते हैं जिनकी किसी खास चीज को लेकर इनकी दीवानगी सारी सीमाओं को लांघ जाती है। अमेरिका के न्यूयॉर्क में रहने वाले भारतीय मूल के युवा हैं कृष जागीरदार। शाकाहारी पिज्जा को लेकर इनकी दीवानगी ऐसी रही कि कंपनी को भी झुकना पड़ा और अपना फैसला वापस लेना पड़ा।

फास्ट-फूड की कंपनी टैको बेल ने सितंबर 2020 में शाकाहारी मैक्सिकन पिज्जा को अपनी लिस्ट से बाहर कर दिया था। इस आइटम को वापस लाने के लिए कृष ने एक अभियान चला दिया। उन्होंने लोकप्रिय आइटम को वापस लाने के लिए एक ऑनलाइन याचिका शुरू की। इस अभियान में उन्हें गायक डोजा कैट और डॉली पार्टन जैसी हस्तियों का समर्थन मिला। जब टैको बेल ने 18 अप्रैल को मैक्सिकन पिज्जा की वापसी की घोषणा की, तो जागीरदार की याचिका पर 2 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर थे।

याचिका में जागीरदार ने उल्लेख किया कि कैसे इस शाकाहारी पिज्जा को कई लोग पसंद करते हैं।

याचिका में जागीरदार ने उल्लेख किया कि कैसे इस शाकाहारी पिज्जा को कई लोग पसंद करते हैं, इसमें खासकर दक्षिण एशियाई समुदाय के लोग शामिल हैं। उन्होंने लिखा, इस आइटम को खोने से न केवल हमारे पसंदीदा खाद्य पदार्थों में से एक का नुकसान होगा बल्कि भारतीय अमेरिकियों के रूप में हम अपने बचपन के आइटम को खो देंगे। कृष का कहना है कि जब वह उदास होते थे, तो यह मेक्सिकन पिज्जा ही था जो उन्हें बेहतर महसूस करता था। यह निश्चित रूप से महज खाने की वस्तु से ज्यादा है। यह कुछ ऐसा है जो मेरे लिए कई अलग-अलग भावनाओं से जुड़ा हुआ है।

कृष ने दक्षिण एशियाई अमेरिकियों के लिए टैको बेल के महत्व को समझाते हुए चार लेखों के लिंक भी साझा किए हैं। जिसमें रीमा पारिख का एक लेख भी शामिल है। एक लेख में विरल दवे लिखते हैं कि टैको बेल भारतीय अमेरिकी समुदाय से जुड़ा हुआ है। हम भारतीय मूल के लोग पूरे अमेरिका में फैले हुए हैं। न्यू जर्सी, वर्जीनिया, टेक्सास और कैलिफोर्निया जैसे राज्यों में अपनी विशिष्ट पहचान और रुचियों की खोज कर रहे हैं। संगीत में हमारा अलग स्वाद है, मातृभूमि के साथ अद्वितीय संबंध हैं। लेकिन जो चीज हमें अपनी जड़ों से और भी ज्यादा जोड़ती है वह है टैको बेल के लिए हमारा प्यार।

टैको बेल का कहना है कि शाकाहारी लोगों के लिए मैक्सिकन पिज्जा वापसी के लिए फिर तैयार है। यह कुरकुरे आटे से बना है। इसमें टमाटर का सॉस और लजीज पनीर है। इसमें किसी तरह के मांस का प्रयोग नहीं किया जाता है। टैको बेल का कहना है कि यह सिर्फ शाकाहारी विकल्प नहीं है जो कृष के परिवार को इसकी ओर आकर्षित करते थे। इसको बनाने के लिए जिन मसालों का प्रयोग किया जाता है उसका स्वाद भारतीय अमेरिकियों को पसंद आता है, क्योंकि यह उनके घर के भोजन की याद दिलाता है।