स्वास्थ्य के क्षेत्र में महिलाएं कम क्यों? फिर... पूजा ने कुछ करने की ठान ली

पूजा कंपनी की सीईओ हैं। उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी में महिलाएं अग्रिम मोर्चे पर हैं। कंपनी में 20 लोगों की टीम है। यह कंपनी 10 मिलियन डॉलर जुटा चुकी है। उनका कहना है कि उनकी कंपनी एक नए प्रकार के प्लान के साथ मैदान में उतरी है।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में महिलाएं कम क्यों? फिर... पूजा ने कुछ करने की ठान ली

पति के स्वास्थ्य की जांच करानी हो। बच्चों को समय पर टीका लगा या नहीं। घर में बुजुर्ग मां-पिताजी ने दवा ली या नहीं। उनके लिए बाजार से कौन सी दवाई कब खरीदकर लानी है। आप जानते हैं कि घर पर ये सब निर्णय कौन लेता है? आप सही सोच रहे हैं, इन तमाम फैसलों के पीछे महिलाओं की अहम भूमिका होती है। लेकिन दुनिया के स्वास्थ्य से जुड़े उद्योग में कितनी महिलाएं हैं?

यही सवाल भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक पूजा इका के मन में बचपन से रहा। उनका कहना है कि घर पर स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े 80 फीसदी फैसले महिलाएं करती हैं। लेकिन इस उद्योग में महिलाओं की उपस्थिति नगण्य है। इसी सवाल के साथ पूजा ने बचपन से ही स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में काम करने की ठान ली थी।