रूस को झुकाने के लिए बाइडेन ने भारतीय मूल के रणनीतिकार को दी यह जिम्मेदारी

दलीप सिंह ने अपने संबोधन में संवाददाताओं से कहा, यूक्रेन पर रूस का हमला शुरू हो गया है और इसके साथ ही हमने जवाब देना भी शुरू कर दिया है। सिंह ने कहा कि जर्मनी के साथ बातचीत के बाद रूस की ‘नॉर्ड स्ट्रीम-2’ प्राकृतिक गैस की पाइपलाइन का संचालन नहीं होगा।

रूस को झुकाने के लिए बाइडेन ने भारतीय मूल के रणनीतिकार को दी यह जिम्मेदारी

रूस ने यूक्रेन में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाकों दोनेत्स्क और लुहान्स्क को स्वतंत्र देश के तौर पर मान्यता दे दी है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने सोमवार को इस निर्णय पर हस्ताक्षर कर अपने इरादे जता दिए। इससे क्षेत्र में तनाव बढ़ गया है। यूक्रेन में रूसी सेना के घुसने से नाराज अमेरिका ने रूस के खिलाफ कई कड़े प्रतिबंधों का ऐलान किया है। राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन ने रूस पर प्रतिबंध लगाने की जिम्‍मेदारी एक भारतीय को सौंपी है। उनका नाम दलीप सिंह हैं। भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक दलीप सिंह बाइडेन प्रशासन के आर्थिक सलाहकार हैं। अमेरिका को उम्मीद है कि इन प्रतिबंधों से रूस की आक्रामकता कम होगी और उसे यूक्रेन पर झुकाया जा सकेगा।

दलीप सिंह के माता-पिता साल 1970 में भारत छोड़कर अमेरिका में बस गए थे। दलीप सिंह की पढ़ाई-लिखाई ड्यूक यूनिवर्सिटी में हुई है, जहां से उन्होंने अर्थशास्त्र और लोकनीति में स्नातक किया है। दलीप सिंह अंतरराष्ट्रीय अर्थशास्त्र के लिए उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और राष्ट्रीय आर्थिक परिषद के उप निदेशक हैं। बीते कुछ दिनों में वह वॉइट हाउस के प्रेस कक्ष में दूसरी बार नजर आए हैं। वॉइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा कि दलीप सिंह को 'लोगों की मांग पर वापस लाया' गया है, क्योंकि सिंह बाइडेन प्रशासन में रूस नीति पर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।