म्यूजीशियन अनुष्का शंकर भारत के आदिवासियों की जंग में शामिल हुईं

हसदेव का आदिवासी समुदाय अपने जंगल को बचाने के लिए एक दशक से भी अधिक समय से लड़ रहा है। समुदाय के कुछ नेताओं को धमकियां मिली हैं और उन्हें झूठे आरोपों में फंसाया भी गया है।

म्यूजीशियन अनुष्का शंकर भारत के आदिवासियों की जंग में शामिल हुईं

भारत के आदिवासियों का जंगल बचाने के लिए अमेरिकी-भारतीय म्यूजीशियन अनुष्का शंकर अपने ही तरीके से जंग लड़ रही हैं। बता दें कि अनुष्का शंकर महान सितार वादक पंडित रविशंकर की बेटी हैं और अमेरिका में रहती हैं। अनुष्का ने छत्तीसगढ़ में हसदेव जंगल में चल रहे कोयला खनन के खतरे को उजागर करने का मोर्चा संभाला है। जंगल के 20 हजार आदिवासियों के साथ उन्होंने अपनी आवाज भी मिलाई है।

अनुष्का को उम्मीद है कि कोयला खनन के लिए जंगल की आहुति देने की सरकार की योजना हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी। 

अपनी एक नई फिल्म में अनुष्का ने हसदेव में शुरू हुई कोयला खनन की अलग तरह की विरोध प्रक्रिया को दर्शाया है। बताया जाता है कि वर्तमान में जंगल में दो खुली हुई खदानें हैं। हालांकि आदिवासी अधिकारों के लिए काम करने वाले लंदन के एक संगठन सर्वाइवल इंटरनेशनल की ओर से जारी एक प्रेस रिलीज के अनुसार जंगल में कोयला खनन की तीन और परियोजनाएं शुरू करने की तैयारियां चल रही हैं।