मंजिल करीब: 'मोबाइल प्रौद्योगिकी के निर्माण में विश्व में पहले स्थान पर होगा भारत'

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री के अनुसार भारत के इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण का बाजार 6 लाख करोड़ को छू गया है। यह क्षेत्र 22 लाख रोजगार पैदा कर रहा है। जिस गति से इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण प्रगति कर रहा है उसका बाजार अगले पांच वर्षों में 25 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा।

मंजिल करीब: 'मोबाइल प्रौद्योगिकी के निर्माण में विश्व में पहले स्थान पर होगा भारत'
Photo by ThisisEngineering RAEng / Unsplash

अगले पांच सालों में भारत मोबाइल प्रौद्योगिकी के निर्माण में विश्व में पहले स्थान पर होगा। यह कहना है भारत के केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव का। उन्होंने कहा कि एक दशक पहले किसने सोचा होगा कि भारत में मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम का निर्माण किया जाएगा। अब भारत पहले ही दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल हैंडसेट निर्माता बन गया है। दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल निर्माण सेट-अप अब भारत में उपलब्ध है।

उन्होंने जानकारी दी कि आत्मनिर्भर भारत कार्यक्रम के हिस्से के रूप में हमें स्पष्ट रूप से भारत में 4जी और 5जी कनेक्टिविटी के लिए आवश्यक तकनीक को डिजाइन और निर्माण करने का निर्देश दिया गया है। यह संतोष की बात है कि 4जी तकनीक को भारत में डिजाइन और विकसित किया गया है। इसका परीक्षण किया जा रहा है। 5जी सेवा के संबंध में हमने जो प्रगति हासिल की है वह हमारी अपेक्षा से परे है।