निबंध प्रतियोगिता से जानेंगे भारतीय हितों को लेकर क्या सोचते हैं अमेरिकी छात्र

सभी श्रेणी में अलग-अलग विजेताओं को 76 हजार से लेकर 39 हजार रुपये दिए जाएंगे। 2020 और 2021 के विजेताओं, उपविजेताओं के निबंध संस्था की वेबसाइट (http://www.indiaphilanthropyalliance.org) पर देखे जा सकते हैं।

निबंध प्रतियोगिता से जानेंगे भारतीय हितों को लेकर क्या सोचते हैं अमेरिकी छात्र

परोपकार से जुड़े काम करने वाली संस्थाओं के समूह भारत परोपकार गठबंधन (आईपीए) ने अमेरिका में तीसरी सालाना निबंध प्रतियोगिता के आयोजन की घोषणा की है। इसका मकसद भारत और भारतीयों के हित के बारे में अमेरिकी स्कूली छात्रों के बीच रचनात्मक सोच की पहचान करना और उन्हें बढ़ावा देना है। भारत के बारे में अमेरिकी छात्र क्या सोचते हैं, उनके विचारों को सामने लाने का एक प्रयास है।

Designer sketching Wireframes
संस्था की तरफ से बताया गया है कि प्रतियोगिता के दौरान विशेषज्ञों का एक पैनल दो आयु समूहों में विजेताओं, उपविजेता और फाइनल में प्रतिभागियों के पहुंचने को लेकर निर्धारण करेगा। Photo by Green Chameleon / Unsplash

आईपीए की तरफ से बताया गया है कि इस वर्ष की प्रतियोगिता संस्था की तरफ से घोषित होने वाले परोपकार सप्ताह से जुड़ी युवाओं की गतिविधियों में से एक है। इसे अमेरिका में रहने वाले भारतीयों, विशेष रूप से युवाओं के बीच परोपकार की भावना और संस्कृति को विकसित करने के लिए तैयार किया गया है। संस्था का कहना है कि आईपीए 15 गैर-लाभकारी, परोपकारी और धर्मार्थ संगठनों का गठबंधन है। संस्था भारत में विकास और गरीबी-उन्मूलन कार्यक्रम संचालित करती है। निबंध प्रतियोगिता की शुरुआत साल 2020 में की गई थी। प्रतियोगिता का मकसद समर्पित और प्रतिभाशाली युवाओं को गैर-लाभकारी संस्थाओं से जोड़ना था। अब अपने तीसरे साल में इस प्रतियोगिता का दरवाजा अमेरिका के छात्रों के लिए खुला है। प्रतियोगिता में अहम सवाल ये रहेंगे कि आज भारत और उसके लोगों के सामने सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा क्या है। पिछले प्रतियोगिता के विजेताओं ने शिक्षा और पीने के पानी से लेकर फसल की कीमतों और बुजुर्गों की देखभाल जैसे विषयों को लेकर संबोधित किया।