दुबई में लगा पर्यटन मेला, भारत ने ऐसे दिखाई 'इन्क्रेडिबल इंडिया' की झलक

भारत के पैवेलियन में इस दक्षिण एशियाई देश को '365 दिन के गंतव्य' के रूप में दिखाया गया है, इसका उद्देश्य भारत की संस्कृति, रोमांच, वन्यजीव, स्वास्थ्य और मेडिकल से जुड़े पर्यटन के दर्शन कराना है।

दुबई में लगा पर्यटन मेला, भारत ने ऐसे दिखाई 'इन्क्रेडिबल इंडिया' की झलक
दुबई के पर्यटन बाजार में भारत का पैवेलियन।

भारत ने दुबई में आयोजित 'अरेबियन ट्रैवल मार्केट 2022' में अपनी मौजूदगी दर्ज करा दी है। यहां दूसरे देशों की तरह भारत का भी पैवेलियन मौजूद है जिसे 'इन्क्रेडिबल इंडिया पैवेलियन' नाम दिया गया है। मध्य पूर्व और उससे बाहर के देशों में ट्रैवल के शीर्ष इवेंट 'अरेबियन ट्रैवल मार्केट' का समापन 12 मई को होगा। यह पर्यटन उद्योग के व्यवसाय को बढ़ाने और उद्योग के अग्रणी व्यवसायियों से संपर्क साधने का बेहतरीन मंच है।

'इन्क्रेडिबल इंडिया पैवेलियन' में भारत के मध्य प्रदेश, नागालैंड, उत्तराखंड को जगह दी गई है। भारत के पैवेलियन का उद्घाटन भारत के महावाणिज्य दूत अमन पुरी, भारत के पर्यटन मंत्रालय की अतिरिक्त महानिदेशक रुपिंदर ब्रार, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, नागालैंड के आयुक्त व सचिव किटो जिमोमी, मध्य प्रदेश पर्यटन के प्रधान सचिव शिव शेखर शुक्ला ने किया।

भारत के मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, नागालैंड को मिली जगह।

भारत के पैवेलियन में इस दक्षिण एशियाई देश को '365 दिन के गंतव्य' के रूप में दिखाया गया है, इसका उद्देश्य भारत की संस्कृति, रोमांच, वन्यजीवन, स्वास्थ्य और मेडिकल से जुड़े पर्यटन के दर्शन कराना है। उधर, मध्य प्रदेश के पर्यटन विभाग  तरह मध्य प्रदेश के पैवेलियन का विषय राज्य की विरासत, संस्कृति और वन्यजीवन था ताकि इस राज्य में मौजूद दुनिया के प्रसिद्ध स्मारकों, समृद्ध वन्यजीवन और रोमांच से भरे पर्यटन को लेकर आकर्षण पैदा किया जा सके।

भारत ने अरेबियन ट्रैवल मार्केट 2022 के दूसरे मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया। वहां उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, बॉलीवुड अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह और गायिका श्वेता सुब्रमण्यन ने सवालों के जवाब दिए। वहीं, रुपिंदर ब्रार ने बताया कि पर्यटन मंत्रालय पर्यटन स्थलों को प्रचारित करने की दिशा में काम कर रहा है। सरकार का विशेष ध्यान फिल्म पर्यटन, सेहत से जुड़े पर्यटन, मेडिकल पर्यटन, वन्यजीवन, रोमांच और विलासिता से जुड़े पर्यटन पर है। उन्होंने कहा कि मध्य पूर्व भारत के पर्यटन का बड़ा बाजार रहा है। वहीं, उन्होंने इस बात पर खास जोर दिया कि भारत की सीमाएं अब अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के लिए खोल दी गई हैं।