लंदन में हनुमान चालीसा का पाठ, क्यों हुआ, भारत से जुड़ा है इसका मसला

लंदन में हिंदूवादी संगठन सिम्पली सनातन, रीच भारत चैप्टर और योगा विद माया ने विंडसर के पार्क में महारानी एलिजाबेथ के स्टैचू के सामने कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमें तिरंगा लेकर भारतीय समुदाय पहुंचा। इससे पहले ही सोशल मीडिया के जरिए हिंदुओं से जुटने की अपील की गई थी।

लंदन में हनुमान चालीसा का पाठ, क्यों हुआ, भारत से जुड़ा है इसका मसला
हनुमान चालीसा का पाठ करने लंदन के एक पार्क में जुटा भारतीय समुदाय

भारत के महाराष्ट्र राज्य से निकला हनुमान चालीसा का विवाद अब ब्रिटेन पहुंच गया है। वहां रह रहा प्रवासी समुदाय भारत की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा को जेल भेजे जाने का विरोध कर रहा है। उनके प्रति अपना समर्थन जताते हुए सोमवार को लंदन में हिंदू संगठनों ने हनुमान चालीसा का पाठ आयोजित किया। ब्रिटेन में सनातन धर्म और योग का प्रचार करने वाले अभि योगी,हृदेश गुप्ता और रीच यूके के संस्थापक गौरव माहना ने लंदन के विंडसर के एक पार्क में हनुमान चालीसा का पाठ कराया, जिसमें हर उम्र के हिंदू धर्मावलंबी जुटे।

महारानी एलिजाबेथ के स्टैचू के सामने चालीसा पाठ

लंदन में हिंदूवादी संगठन सिम्पली सनातन, रीच भारत चैप्टर और योगा विद माया ने विंडसर के पार्क में महारानी एलिजाबेथ के स्टैचू के सामने कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें तिरंगा लेकर भारतीय समुदाय पहुंचा। इस अवसर पर सिम्पली सनातन संस्था ने महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि महाराष्ट्र में भले ही अभिव्यक्ति की आजादी न हो लेकिन लंदन में है।

इससेे पहले ही सोशल मीडिया के जरिए हिंदुओं से जुटने की अपील की गई थी। सनानत संस्था ने कार्यक्रम में शामिल होने की अपील करते हुए ट्वीट किया था, 'आज हम लंदन में हनुमान चालीसा का आयोजन कर रहे हैं जब महाराष्ट्र की 'महा विकास अगाड़ी' सरकार ने ऐसे आयोजन पर प्रतिबंध लगाने का प्रयास किया है। भारत 80 प्रतिशत हिंदुओं का भी राष्ट्र है। सनातनी को भक्ति से रोकना भी अपराध है। लंदन में सनातनी आज पाठ करेंगे। यह आप भी देखेंगे।'

कार्यक्रम में शामिल होने आए लोगों का कहना था कि दुनियाभर के सनातनियों को समझना होगा कि अगर आपको अपने अस्तित्व को बचाना है तो खुद के लिए खड़ा होना होगा और हम भी नवनीत राणा की तरह हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे हैं और हमें ऐसा करने से कोई नहीं रोक सकता।

नमाजियों की भावना का भी रखा ख्याल

कार्यक्रम के दौरान हनुमान चालीसा का पाठ तो किया गया साथ ही यह मिसाल भी पेश की गई कि हिंदू अपने धर्म के साथ ही दूसरे धर्म का भी सम्मान करते हैं। पार्क में मौजूद भारतीय समुदाय भारत के समर्थन में नारे लगा रहा था, तभी उनकी नजर पार्क के दूसरे हिस्से में नमाज पढ़ते हुए लोगों पर गई, जिसे देखते हुए उन्होंने न केवल नारेबाजी रोक दी बल्कि हनुमान चालीसा का पाठ भी तब तक रोके रखा जब तक नमाज पूरी नहीं हो गई।

रीच इंडिया यूके चैप्टर के सदस्य और ब्रिटेन में रहने वाले पाकिस्तानी एक्टिविस्ट इस व्यवहार की तारीफ करते हुए कहा, 'उन्होंने यह उदाहरण पेश किया कि एक सभ्य समाज के लोग किस तरह का व्यवहार करते हैं। हिंदुओं ने दिखाया है कि उनसे किसी धर्म को कोई खतरा नहीं है।'

बता दें कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री के सामने हनुमान चालीसा पढ़ने के प्रयास में नवनीत राणा और उनके पति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। इन दोनों को अभी जमानत नहीं मिल पाई है क्योंकि अदालत ने जमानत याचिका पर सुनवाई के बाद फैसला 4 मई तक के लिए सुरक्षित कर दिया है।