देश के संकट से दुखी श्रीलंका के क्रिकेट खिलाड़ी, मदद के लिए 'बड़े भाई' का जताया आभार

जयसूर्या ने कहा, 'एक पड़ोसी के तौर पर, हमारे देश का बड़ा भाई हमारी मदद कर रहा है। हम भारत सरकार और प्रधानमंत्री मोदी के प्रति आभारी हैं।' पूर्व दिग्गज क्रिकेटर कुमार संगकारा ने भी देश में हालात पर चिंता जताई है। महिला जयवर्धने ने कहा कि श्रीलंका में आपातकाल और कर्फ्यू देखकर दुख होता है।

देश के संकट से दुखी श्रीलंका के क्रिकेट खिलाड़ी, मदद के लिए 'बड़े भाई' का जताया आभार

गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहे श्रीलंका के पूर्व दिग्गज क्रिकेट खिलाड़ी सनत जयसूर्या ने देश में हालात पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश के नागरिकों को इन स्थितियों का सामना करना पड़ रहा है। जयसूर्या ने भारत को बड़ा भाई बताया और संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से मदद भेजने के लिए आभार जताया है।

उन्होंने कहा, 'आप जानते हैं कि एक पड़ोसी के तौर पर, हमारे देश का बड़ा भाई हमारी मदद कर रहा है। हम भारत सरकार और प्रधानमंत्री मोदी के प्रति आभारी हैं।' इस संकट को संभालने में राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों का समर्थन करते हुए जयसूर्या ने कहा कि ईंधन और गैस की कमी है। कभी-कभी 10-12 घंटों तक बिजली नहीं आती है। हमारे देश के लोगों के लिए बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, इसीलिए लोग बाहर आ रहे हैं और प्रदर्शन कर रहे हैं।

जयसूर्या ने कहा कि अगर इन हालात से ठीक तरीके से नहीं निपटा गया तो देश में तबाही की स्थिति बन जाएगी। 

उन्होंने यह चेतावनी भी दी कि अगर इन हालात से ठीक तरीके से नहीं निपटा गया तो देश में तबाही की स्थिति बन जाएगी। उन्होंने कहा, 'हम नहीं चाहते हैं कि हालात और बुरे हो जाएं। डीजल, गैस और मिल्क पाउडर के लिए तीन-चार किलोमीटर तक लंबी पंक्तियां लग रही हैं। यह बहुत दुखी करने वाला है और लोग बहुत परेशान हैं। हमें इस स्थिति को सही तरीके से संबोधित करना होगा।'

श्रीलंका के एक और पूर्व दिग्गज क्रिकेटर कुमार संगकारा ने भी देश में हालात पर चिंता जताई है। 

वहीं श्रीलंका के एक और पूर्व दिग्गज क्रिकेटर कुमार संगकारा ने भी देश में हालात पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका के लोग सबसे मुश्किल समय में से एक का सामना कर रहे हैं। लोगों और परिवारों को संकट में देखकर दिल टूट गया है। उन्हें हर चीज के लिए जूझना पड़ रहा है और हर दिन उनके लिए पहले से अधिक कठिन होता जा रहा है। लोगों के भविष्य को बचाया जाना चाहिए।

संगकारा ने सरकार से अपील की कि लोगों की बात सुनें और अपने ‘विध्वंसक राजनीतिक एजेंडा’ एक तरफ रख दें। उन्होंने कहा, ‘लोग दुश्मन नहीं हैं। श्रीलंका की जरूरत उसके लोग हैं। समय तेजी से निकल रहा है, लोगों को और उनके भविष्य को हर हालत में बचाया जाना चाहिए।’ बता दें कि श्रीलंका में लोग सड़कों पर उतर आए हैं और पुलिस इन्हें रोकने के लिए बल प्रयोग कर रही है।

महेला जयवर्धने ने कहा कि श्रीलंका में आपातकाल और कर्फ्यू देखकर दुख होता है। 

श्रीलंका के एक और प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी महेला जयवर्धने ने कहा कि श्रीलंका में आपातकाल और कर्फ्यू देखकर दुख होता है। सरकार लोगों की जरूरतों को नजरअंदाज नहीं कर सकती जिनके पास विरोध करने का अधिकार है। विरोध करने वाले लोगों को हिरासत में लेना स्वीकार्य नहीं है। सच्चे नेता अपनी गलती स्वीकार करते हैं।लोगों को बचाने के लिए आपात कदम उठाने की जरूरत है।

उधर बीते मंगलवार को राष्ट्रपति गोटबाया की अगुवाई वाले श्रीलंका के सत्तारूढ़ गठबंधन की मुश्किलें बढ़ गई थीं जब नवनियुक्त वित्त मंत्री अली साबरी ने पद संभालने के एक दिन बाद ही इस्तीफा दे दिया था। इसके अलावा दर्जनों सांसदों ने भी सत्तारूढ़ गठबंधन का साथ छोड़ दिया है। राष्ट्रपति राजपक्षे ने अपने भाई बासिल राजपक्षे को बर्खास्त करने के बाद साबरी को नियुक्त किया था।