भारत सरकार अपने निर्णय पर पलटी, कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा

आज सुबह राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘मैं देश वासियों के क्षमा मांगते हुए, सच्चे मन से कहना चाहता हूं कि हमारे प्रयास में कमी रही होगी कि हम उन्हें (किसानों को) समझा नहीं पाए। दूसरी ओर विपक्षी नेताओं ने इसे किसानों के आंदोलन की जीत बताया है।

भारत सरकार अपने निर्णय पर पलटी, कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा

भारत सरकार ने उन कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला लिया है, जिसको लागू करते वक्त उसने दावा किया था कि इन कानूनों से कृषि का विस्तार होगा, किसानों की आय बढ़ेगी और किसानों को दलालों से मुक्ति मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कानूनों को वापस लेने की घोषणा की और कहा कि हमारे प्रयासों में कोई कमी रह गई होगी कि इस मसले पर हम किसानों को समझा नहीं पाए। इस बिल के खिलाफ भारत की राजधानी दिल्ली के आसपास के बॉर्डरों पर किसान साल भर से धरना दे रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा की।

देश के विपक्षी दलों ने कृषि कानूनों की वापसी पर केंद्र सरकार को निशाने पर लिया और कहा है कि अन्याय के खिलाफ किसानों की जीत हुई है। दूसरी ओर किसान नेताओं का कहना है कि उनका आंदोलन तब तक जारी रहेगा, जब तक वैधानिक तौर पर इन कानूनों को वापस नहीं लिया जाता।

कृषि कानून वापस लिए जाने पर खुशी मनाते किसान। फोटोः राजीव भट्ट