भारत के इंजीनियर अमन पांडेय का क्यों मुरीद हुआ गूगल?

इंदौर के अमन पांडेय बग्स मिरर कंपनी के संस्थापक हैं। उन्होंने साल 2021 में आधिकारिक तौर पर अपनी कंपनी का पंजीकरण कराया था। एनआईटी भोपाल से ग्रेजुएट अमन अपनी कंपनी के सीईओ भी हैं।

भारत के इंजीनियर अमन पांडेय का क्यों मुरीद हुआ गूगल?
Photo by Pawel Czerwinski / Unsplash

दुनिया की विख्यात कंपनी गूगल ने अपनी एक रिपोर्ट में इंदौर के इंजीनियर अमन पांडेय का खास जिक्र किया है और उन्हें धन्यवाद किया है। अब गूगल किसी की तारीफ करे तो उस शख्स में कोई न कोई तो खासियत जरूर होगी। दरअसल, गूगल की अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर कई बार बग निकल आते हैं। इन बग का पता लगाने या उसे ठीक करने वालों को गूगल बड़ा इनाम भी देती है। अमन ने गूगल के लिए 280 बग ढूंढ निकाले हैं।

अमन ने पिछले साल गूगल के लिए 232 बग रिपोर्ट किए। 

इंदौर के अमन पांडेय बग्स मिरर कंपनी के संस्थापक हैं। उन्होंने साल 2021 में आधिकारिक तौर पर अपनी कंपनी का पंजीकरण कराया था। एनआईटी भोपाल से ग्रेजुएट अमन अपनी कंपनी के सीईओ भी हैं। अमन ने पिछले साल गूगल के लिए 232 बग रिपोर्ट किए। गूगल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि अमन पांडेय बीते साल हमारे टॉप रिसर्चर रहे। अमन ने पिछले साल गूगल के लिए 232 बग ढूंढ निकाले थे। उन्होंने 2019 में पहली बार अपनी रिपोर्ट दी थी और तब से अब तक वह 280 से ज्यादा रिपोर्ट कर चुके हैं। गूगल का कहना है कि यह हमारे कार्यक्रम को सफल बनाने में महत्वपूर्ण साबित हुआ है।