Skip to content

जर्मनी ने भी भारत की इस वैक्सीन को दी मंजूरी, 1 जून बिना रोक-टोक होगा प्रवेश

जर्मनी के भारत और भूटान के लिए राजदूत वाल्टर जे लिंडनर ने इस बात की घोषणा की है। प्रवेशकों को अब टीकाकरण के प्रमाण की आवश्यकता नहीं होगी। उन्होंने कहा कि 1 जून से जर्मनी सरकार ने यात्रा के लिए डब्ल्यूएचओ द्वारा सूचीबद्ध की गई कोवैक्सिन को मान्यता देने का फैसला किया है।

Photo by Ed Us / Unsplash

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा बनाए गए कोविड रोधी टीके कोविशील्ड के बाद अब भारत की दूसरी वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायो​टेक द्वारा निर्मित की गई कोवैक्सिन को भी दुनिया मान्यता दे रही है। ऑस्ट्रेलिया, जापान और कनाडा जैसे प्रमुख देशों के बाद अब जर्मनी ने भी कोवैक्सिन को मान्यता देने का फैसला किया है।

प्रवेशकों को अब टीकाकरण के प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं होगी। Photo by Sangga Rima Roman Selia / Unsplash

जर्मनी के भारत और भूटान के लिए राजदूत वाल्टर जे लिंडनर ने इस बात की घोषणा की है। वाल्टर जे लिंडनर ने गुरुवार को अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्विटर के माध्यम से बताया कि यूरोपीय राष्ट्र जर्मनी की सरकार 1 जून से भारत बायोटेक द्वारा निर्मित COVID-19 वैक्सीन कोवैक्सिन की दोनों डोज ले चुके यात्रियों को भी देश में बिना किसी रुकावट के प्रवेश देगी।

एक ट्वीट में लिंडनर ने कहा कि मैं बहुत खुश हूं कि 1 जून से जर्मनी सरकार ने यात्रा के लिए डब्ल्यूएचओ द्वारा सूचीबद्ध की गई कोवैक्सिन को मान्यता देने का फैसला किया है। उन्होंने आगे लिखा कि दूतावास इस तरह के निर्णय के लिए बहुत सक्रिय रूप से जोर दे रहा है। दरअसल कोविड के चलते बैकलॉग वीजा अनुभागों में सामान्य से अधिक इंतजार करना पड़ रहा है, कृपया धैर्य रखें।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि पिछले साल नवंबर में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोवैक्सिन के लिए इमरजेंसी यूज लिस्टिंग (EUL) की स्थिति की सिफारिश की थी। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया, जापान और कनाडा सहित कई देशों ने कोवैक्सिन टीका लगवा चुके यात्रियों के प्रवेश को अनुमति दी।

दूसरी ओर हैदराबाद स्थित वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायोटेक ने भी एक ट्वीट में इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि जर्मनी ने कोवैक्सिन वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। प्रवेशकों को अब टीकाकरण के प्रमाण की आवश्यकता नहीं होगी। इतना ही नहीं भारत बायोटेक ने एक बयान में कहा कि 2-18 साल की उम्र के स्वस्थ बच्चों और किशोरों में कोवैक्सिन की सुरक्षा, प्रतिक्रियात्मकता और इम्युनोजेनेसिटी का मूल्यांकन करने के लिए समूह ने दूसरा और तीसरा चरण, ओपन-लेबल और बहुकेंद्रीय अध्ययन आयोजित किए थे। कोवैक्सिन को विशिष्ट रूप से तैयार किया गया है ताकि वयस्कों और बच्चों को समान खुराक दी जा सके। कोवैक्सिन एक रेडी-टू-यूज लिक्विड वैक्सीन है जिसे 2-8 डिग्री सेल्सियस पर स्टोर किया जाता है।

Latest