ऑस्ट्रेलिया में कभी फाइलिंग का काम करने वाले कामदार ऐसे बन गए पार्षद

भारत में कार्य का अनुभव भी कामदार के काम आया। इसके अलावा उन्हें पर्थ में भारत के महावाणिज्य दूतावास में काम करने का मौका मिला। उनका काम पश्चिमी ऑस्ट्रेलियाई व्यापार एजेंसियों और भारत सरकार के निकायों के बीच संपर्क स्थापित करना था।

ऑस्ट्रेलिया में कभी फाइलिंग का काम करने वाले कामदार ऐसे बन गए पार्षद

एक समय में ऑस्ट्रेलिया की कारोबारी चेन आईजीए (IGA) में फाइलिंग ब्वॉय का काम करने वाले केयुर कामदार ने पार्षद के चुनाव में जीत हासिल की है। मूल रूप से भारत के गुजरात के राजकोट से आने वाले केयुर कामदार पिछले 14 वर्षों से ऑस्ट्रेलिया में रह रहे हैं। उन्होंने पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के अर्माडेल शहर में हुए पार्षद चुनाव में जीत दर्ज की है। केयुर साल 2007 में ऑस्ट्रेलिया आए थे।

यह पहली बार है जब किसी गुजराती व्यक्ति को पार्षद चुना गया है। कामदार को 1339 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंदी प्रत्याशी को महज 875 मतों से संतोष करना पड़ा। कामदार अर्माडेल शहर के रैनफोर्ड वार्ड से खड़े हुए थे। अपनी इस जीत के बाद कामदार ने कहा कि मैं कोई राजनेता नहीं हूं, मैं इस बेहद खूबसूरत जगह अर्माडेल के समुदाय का एक सदस्य हूं, जिसे मैं अपना घर कहता हूं।