भारतीय नहीं छीन रहे हैं अमेरिकी युवाओं की नौकरी: रिपोर्ट

अमेरिकी सरकार के आंकड़े बताते हैं कि वित्तीय वर्ष 2021 में एच-1 बी वीजा पर अमेरिका आने वालों की संख्या में कमी रही। वहीं, इससे पहले वित्तीय वर्ष 2020 में 1,25,000 अप्रवासी आए जो पिछले वित्तीय वर्ष 2019 में आए 190,000 की तुलना में कम हैं।

भारतीय नहीं छीन रहे हैं अमेरिकी युवाओं की नौकरी: रिपोर्ट
Photo by Muhammad Rizwan / Unsplash

अमेरिकी अक्सर ये आरोप लगाते रहते हैं कि विदेशी खासकर भारतीयों के चलते उनका हक मारा जाता है। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तो इसे चुनावी मुद्दा बनाते हुए कई ऐसे नियम बनाए थे, जिससे नौकरियों में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता मिले और दूसरे देशों के युवाओं  के लिए यूएस जाकर काम करना मुश्किल हो जाए। लेकिन तथ्य इसके बिल्कुल उलट हैं। कोविड महामारी के दौरान विदेशी खासतौर पर भारतीयों का अमेरिका जाना कम हुआ। अगर अमेरिकी आरोप को सही माने तो इस दौरान अमेरिका के स्थानीय लोगों को ज्यादा नौकरी मिलनी चाहिए थी। लेकिन ऐसा नहीं है।

आईटी सहित कौशल वाले बड़े सेक्टरों में काम करने के लिए जिस योग्यता की जरूरत होती है, उसका स्थानीय पेशेवरों में अभाव दिखता है। यही वजह है कि अमेरिकी कंपनियां भारतीय योग्यता के आगे नतमस्तक होते रहे हैं। नेशनल फाउंडेशन ऑफ अमेरिकन पॉलिसी (NFAP) की अध्ययन रिपोर्ट बताती है कि पिछले दो साल के दौरान एच-1बी वीजा जारी करने में कटौती की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना महामारी की वजह से अमेरिका के श्रम बाजार में अप्रवासियों की संख्या में कमी आई। यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ फ्लोरिडा के अर्थशास्त्र के प्रोफेसर मेडेलिन जेवोडनी का कहना है कि इन अप्रवासियों की संख्या में कमी होने के बावजूद इस बात का कोई सबूत सामने नहीं आया कि इससे स्थानीय अमेरिकी नागरिकों को बड़ी संख्या में नौकरी मिल गई।