यूक्रेन संकट, अब भारतीय मंत्रियों का अमेरिकी दौरा, करवटें ले रही है कूटनीति

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि यह संवाद दोनों पक्षों की विदेश नीति, रक्षा और सुरक्षा से संबंधित होगा। इसके अलावा इस वार्ता का उद्देश्य संबंधों को और मजबूत करने के लिए रणनीतिक मार्गदर्शन और दूरदृष्टि को प्रशस्त करना है।

यूक्रेन संकट, अब भारतीय मंत्रियों का अमेरिकी दौरा, करवटें ले रही है कूटनीति

यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर 11 से 12 अप्रैल तक संयुक्त राज्य अमेरिका के दौरे पर होंगे। इस यात्रा में भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भी होंगे।

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बताया कि भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर 11 अप्रैल को भारत-यूएस के बीच चौथे डायलॉग में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। वहीं अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में 11 अप्रैल को 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता के लिए अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश मंत्री एंथनी ब्लिंकन और रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन करेंगे।

​अरिंदम ने बताया कि यह संवाद दोनों पक्षों की विदेश नीति, रक्षा और सुरक्षा से संबंधित होगा। यह भारत-अमेरिका द्विपक्षीय एजेंडा में क्रॉस-कटिंग मुद्दों की व्यापक समीक्षा करने में सक्षम करेगा। इसके अलावा इस वार्ता का उद्देश्य संबंधों को और मजबूत करने के लिए रणनीतिक मार्गदर्शन और दूरदृष्टि को प्रशस्त करना है।

बागची ने कहा कि 2+2 वार्ता महत्वपूर्ण क्षेत्रीय और वैश्विक विकास के बारे में विचारों का आदान-प्रदान करने  के साथ साथ कैसे हम साझा हितों और साझा चिंताओं को हल कर सकते हैं इसका अवसर देगी। लगातार चल रही इस वार्ता के हिस्से के रूप में विदेश मंत्री एस जयशंकर अलग से अपने अमेरिकी समकक्ष सचिव ब्लिंकन से मुलाकात करेंगे।

बता दें कि भारत-अमेरिका के व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को और आगे बढ़ाने के लिए विदेश मंत्री अमेरिकी प्रशासन के वरिष्ठ सदस्यों से भी इस यात्रा के दौरान मिलेंगे।