Skip to content

अजीब मसला: मासूम बेटे के पिता को भारत वापस भेजेगा ऑस्ट्रेलिया!

गगनदीप का प्रतिनिधित्व कर रहे आव्रजन वकील जोसेफ इटालियनो बताते हैं कि गगनदीप ऑस्ट्रेलियाई आव्रजन नियमों की वजह से यह कीमत चुका रहे हैं। असल में वह पहले भी शादी कर पार्टनर वीजा पा चुके हैं। वह शादी टूट गई। नियमों के अनुसार अब दोबारा शादी पर यह वीज़ा नहीं मिल पाएगा

ऑस्ट्रेलिया में लगभग 14 साल पहले से रह रहे एक भारतीय नागरिक को प्रशासन वापस भेजने की तैयारी कर रहा है। गगनदीप सिंह नाम के इस शख्स का अब ऑस्ट्रेलिया में भरा-पूरा परिवार है। घर में ऑस्ट्रेलियाई पत्नी फोबे है और उनका तीन साल का बेटा जारो है। प्रशासन ने गगनदीप सिंह को 11 मई तक देश छोड़ने का आदेश दिया है।

गगनदीप के समर्थन में ऑनलाइन याचिका भी डाली गई है जिस पर 1,300 से अधिक लोग हस्ताक्षर कर चुके हैं।

दरअसल सिंह का इस दिन अस्थायी ब्रिजिंग वीजा समाप्त हो जाएगा। जारो के पिता गगनदीप सिंह साल 2009 में स्टूडेंट वीजा पर ऑस्ट्रेलिया आए थे। उनकी अपनी पत्नी फोबे से पहली मुलाकात साल 2012 में हुई और तीन साल बाद दोनों ने शादी कर ली। गगनदीप सिंह और फोबे विक्टोरिया के गिप्सलैंड के सेल इलाके में रहते हैं। गगनदीप का ऑस्ट्रेलिया में अपना ट्रकों का व्यवसाय है और उनकी पत्नी फोबे वृद्धों की देखभाल करती हैं।

गगनदीप के मसले का प्रतिनिधित्व कर रहे आव्रजन वकील जोसेफ इटालियनो बताते हैं कि गगनदीप ऑस्ट्रेलियाई आव्रजन नियमों की वजह से यह कीमत चुका रहे हैं। दरअसल नियम कहता है कि आप दो बार पार्टनर वीजा के लिए आवेदन नहीं कर सकते। दरअसल गगनदीप एक दशक पहले किसी अन्य महिला के साथ संबंध में थे। उस वक्त गगनदीप ने उनके नाम पर पार्टनर वीजा के लिए आवेदन किया था। लेकिन वह रिश्ता नहीं चल पाया और दोनों अलग हो गए।

इसके परिणामस्वरूप गगनदीप अब दूसरी बार पार्टनर वीजा के लिए आवेदन करने में असमर्थ हैं। भले ही वह फोबे से विवाहित हैं और उनका एक बच्चा है। गगनदीप के वकील इटालियनो ने बताया कि गगनदीप को दूसरी बार पार्टनर वीजा के लिए आवेदन करने से खुद ऑस्ट्रेलिया का कानून रोकता है। हालांकि गगनदीप ​दो साल बाद पार्टनर वीजा के लिए आवेदन कर सकते हैं। लेकिन तब तक उन्हें भारत में रहना होगा।

इटालियनो कहते हैं कि तीन साल के बच्चे से दो साल के लिए अलग कर देना वास्तव में क्रूर और अमानवीय है। दूसरी ओर उनकी पत्नी फोबे भी अपने पति के साथ भारत नहीं जा सकती क्योंकि फोबे को गंभीर मानसिक और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं। समस्या यह भी है कि भारत अंतरजातीय विवाहों को मंजूरी नहीं देता है और इसलिए इससे निपटने में भी कठिनाई होगी।

बता दें कि गगनदीप के समर्थन में एक ऑनलाइन याचिका भी डाली गई है जिस पर अभी तक 1,300 से अधिक लोग हस्ताक्षर कर चुके हैं। लोगों ने वेबसाइट पर समर्थन के लिए अपने कारण बताए हैं। एक समर्थक ने​ लिखा कि यह अमानवीय है। उसे अपने परिवार के साथ रहने दो। वह अपने परिवार का समर्थन करता है जैसे कोई अन्य अच्छा ऑस्ट्रेलियाई करता है। दूसरे ने लिखा कि यह आदमी एक प्यार करने वाला पति है। वह एक जिम्मेदार पिता और एक मेहनती आदमी भी है जो 10 साल से अधिक समय से हमारी अर्थव्यवस्था में योगदान दे रहा है।

Latest