ब्रिटिश सांसद से मुलाकात कर विवादों में घिरे मान, पूर्व सेना प्रमुख ने उठाए सवाल

जेजे सिंह के मुताबिक तनमनजीत सिंह ने कश्मीर के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय बनाने की कोशिश की है। तनमनजीत की सीएम भगवंत मान से मुलाकात गंभीर मामला है। मामले पर भगवंत मान को सफाई देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश को ऐसे व्यक्ति से मुलाकात का एजेंडा पता होना चाहिए, जो भारत के खिलाफ मुखर रहा हो।

ब्रिटिश सांसद से मुलाकात कर विवादों में घिरे मान, पूर्व सेना प्रमुख ने उठाए सवाल

भारत में पंजाब प्रांत के सीएम भगवंत मान ब्रिटिश सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी से मुलाकात कर नए विवाद में घिरते नजर आ रहे हैं। भारत के पूर्व सेना प्रमुख जनरल जेजे सिंह ने ब्रिटेन के सांसद तनमनजीत सिंह ढेसी की पंजाब के सीएम भगवंत मान से मुलाकात पर सवाल उठाए हैं। जेजे सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी को साफ करना चाहिए कि क्या वह ब्रिटिश सांसद के कथित अलगाववादी और भारत विरोधी विचारों का समर्थन करती है।

बता दें कि तनमनजीत सिंह ढेसी लेबर पार्टी के सांसद हैं। आरोप है कि ढेसी ने कश्मीर सहित तमाम मुद्दों पर हमेशा भारत विरोधी रुख अपनाया है। जेजे सिंह ने सवाल उठाए कि ऐसे विवादित ब्रिटिश सांसद का सीएम भगवंत मान और सांसद राघव चड्ढा ने गर्मजोशी से स्वागत किया। उन्होंने कहा कि भगवंत मान की तनमनजीत सिंह से किन मुद्दों पर चर्चा हुई इस बात को सार्वजनिक किया जाना चाहिए। उन्होंने सवाल उठाए कि क्या यह मुलाकात अनिवासी भारतीयों के कल्याण के बारे में थी, कुछ संदिग्ध व्यक्तियों को काली सूची में डालना या यह कश्मीर के बारे में थी?

जेजे सिंह के मुताबिक तनमनजीत की सीएम भगवंत मान से मुलाकात गंभीर मामला है। 

जेजे सिंह के मुताबिक तनमनजीत सिंह ने कश्मीर के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय बनाने की कोशिश की है। तनमनजीत की सीएम भगवंत मान से मुलाकात गंभीर मामला है। मामले पर भगवंत मान को सफाई देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश को ऐसे व्यक्ति से मुलाकात का एजेंडा पता होना चाहिए, जो भारत के खिलाफ मुखर रहा हो।

गौरतलब है कि तनमनजीत सिंह ढेसी ने शुक्रवार को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान से चंडीगढ़ में उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की थी। उन्होंने ट्वीट कर इस मुलाकात के बारे में बताया कि हमने एनआरआई की आशाओं, चिंताओं और पंजाब की प्रगति को देखने की इच्छा पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने मुझे इन मुद्दों के समाधान के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ देने का आश्वासन दिया। उधर, तमाम आरोपों के बीच आम आदमी पार्टी के नेता नील गर्ग ने कहा कि अगर तनमनजीत सिंह ढेसी भारत विरोधी हैं तो उन्हें केंद्र सरकार ने देश में आने की इजाजत ही क्यों दी। वहीं, ढेसी ने कहा है कि उनके सारे बयान सार्वजनिक हैं।

बता दें, सांसद तनमनजीत सिंह ने ब्रिटेन के सदन में भारत के साथ रक्षा सौदों को समाप्त करने की वकालत की थी। आरोप है कि तनमनजीत सिंह के खालिस्तान समर्थकों के साथ नजदीकी संबंध हैं। वह कई बार भारत विरोधी बात करते रहे हैं। ढेसी जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने के भारत सरकार के फैसले की आलोचना कर चुके हैं। भारत में किसान आंदोलन के आंतरिक मसले को ढेसी ब्रिटिश संसद में उठा चुके हैं।