इस प्रवासी कामकाजी की कविताओं में है प्रेम, आनंद, जुनून, दुख, प्रकृति का चित्रण

लिजू का कहना है कि भविष्य में वह एक उपन्यास लिखने का प्लान बना रही हैं। वह कुवैत में आईटी मैनेजर के रूप में काम कर रही हैं और वक्त मिलने पर लेखन का शौक पूरा करती हैं।

इस प्रवासी कामकाजी की कविताओं  में है प्रेम, आनंद, जुनून, दुख, प्रकृति का चित्रण

कुवैत में रहने वाली भारतीय एलिजाबेथ लिज़ू जिनू (Elizabeth Lizu Ginu) ने अपनी पहली पुस्तक 'द चेंजिंग मास्क' को 80 कविताओं के संग्रह के साथ प्रकाशित किया है। हाल ही में कुवैत में भारत की राजदूत सिबी जॉर्ज ने भारतीय दूतावास में इस पुस्तक का विमोचन किया। लिज़ू आईटी मैनेजर के रूप में काम करती हैं और अपने पति व दो बच्चों के साथ रहती हैं। उनकी साहित्य और संगीत में गहरी रुचि है। जब वह काम नहीं करतीं, तो आध्यात्मिक और प्रेरक सेमिनार आयोजित करती है।

लिजू़ ने इंडियन स्टार को बताया, "मैंने कम उम्र में ही लिखना शुरू कर दिया था, लेकिन कविता मेरे जीवन में तब आई जब मैं कॉलेज में थी। यह पुस्तक पुरानी और नई कविताओं का संकलन है। मैंने इनमें से कुछ पुरानी कविताओं का चयन किया और उन्हें संशोधित किया। इस पुस्तक को बनाने की पूरी प्रक्रिया में लगभग 10 महीने लगे।"