स्टार्टअप ने कैसे अपने 500 कर्मियों को बनाया करोड़पति, पढ़कर अच्छा लगेगा

कंपनी के सीईओ गिरीश मातृभूम ने कहा कि उनकी कंपनी ने दूसरी भारतीय Saas स्टार्टअप के लिए पब्लिक होने का रास्ता साफ कर कर दिया है। उन्होंने कहा कि फ्रेशवर्क्स खुद के लिए BMW लेने के लिए शुरू नहीं की थी बल्कि वह सभी कर्मचारियों के लिए BMW लेना चाहते हैं।

स्टार्टअप ने कैसे अपने 500 कर्मियों को बनाया करोड़पति, पढ़कर अच्छा लगेगा

बिजनेस सॉफ्टवेयर निर्माता कंपनी फ्रेशवर्क्‍स (Freshworks) की नैस्‍डैक (Nasdaq) में लिस्टिंग से न केवल कंपनी के सीईओ गिरीष मातृभूतम और इसके शुरुआती निवेशकों जैसे एस्‍सेल और सिकोइया कैपिटल को मोटा फायदा हुआ तो कंपनी ने अपने 500 कर्मचारियों को करोड़पति बना दिया। इन 500 कर्मचारियों में से 69 कर्मचारियों की उम्र 30 साल से कम है।

स्टार्टअप फ्रेशवर्क के शेयर नैसडैक इंडेक्स पर अपने इश्यू प्राइस से 21 फीसदी ऊपर 36 डॉलर के भाव पर दर्ज हुए। 

स्टार्टअप फ्रेशवर्क गिरीश मातृभूतम की कंपनी है जिसके शेयर ने नैसडैक इंडेक्स पर अपने इश्यू प्राइस से 21 फीसदी ऊपर 36 डॉलर के भाव में एंट्री की। इस धमाकेदार एंट्री के साथ ही फ्रेशवर्क्स इंक का मार्केट कैप 12 अरब डॉलर के ऊपर पहुंच गया है।