भारत के शेयर बाजार में इसलिए निवेश करना चाहते हैं भारतीय प्रवासी, रखी मांग

FIIDS ने सीतारमण को दिए अपने बयान में कहा कि हाल के एक सर्वेक्षण में प्रवासी भारतीय समुदाय के 88 फीसदी लोगों ने इस कदम का समर्थन किया था। FIIDS ने कहा कि इससे निवेश पर दो स्थानों पर टैक्स दाखिल करने और दूसरे देश में भरे गए टैक्स पर क्रेडिट प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होगी।

भारत के शेयर बाजार में इसलिए निवेश करना चाहते हैं भारतीय प्रवासी, रखी मांग
Photo by Tech Daily / Unsplash

प्रवासी भारतीयों की एक प्रमुख संस्था फाउंडेशन फॉर इंडिया एंड इंडियन डायस्पोरा स्टडीज  (FIIDS) ने भारत की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से अनिवासी भारतीयों (NRI) और भारत के विदेशी नागरिक (OCI) कार्ड धारकों को भारतीय शेयर बाजार में निवेश करने की अनुमति देने का आग्रह किया है। फीड्स यूएसए ने कहा कि इस तरह के कदम से वैश्विक भारतीय समुदाय को निवेश के प्रति आकर्षित करने से भारतीय अर्थव्यवस्था को और मजबूती मिलेगी।

FIIDS यूएस-भारत नीति अध्ययन और जागरूकता के लिए एक यूएस-आधारित संस्थान है।

FIIDS यूएस-भारत नीति अध्ययन और जागरूकता के लिए एक यूएस-आधारित संस्थान है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की वार्षिक वसंत बैठक में भाग लेने के बाद सीतारमण इस समय वेस्ट कोस्ट में हैं। FIIDS ने सीतारमण को दिए अपने बयान में कहा कि हाल के एक सर्वेक्षण में प्रवासी भारतीय समुदाय के 88 फीसदी लोगों ने इस कदम का समर्थन किया था। FIIDS ने वित्तमंत्री से डबल टैक्स अवॉइडेंस एग्रीमेंट (DTAA) का विस्तार करने का भी आग्रह किया ताकि भारत में (कुछ प्रतिबंधों के साथ) टैक्स (भरे हुए) आय पर संयुक्त राज्य में टैक्स को दाखिल करने से बचा जा सके।

FIIDS ने कहा कि इससे निवेश पर दो स्थानों पर टैक्स दाखिल करने और दूसरे देश में भरे गए टैक्स पर क्रेडिट प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं होगी। FIIDS ने इस मसले पर भी सर्वेक्षण किया था, जिसे 5 में से 4.2 रेटिंग मिली है और 84 फीसदी प्रवासी भारतीय समुदाय का समर्थन हासिल हुआ है। FIIDS ने वित्त मंत्री से सामाजिक सुरक्षा पर अमेरिकी सरकार के साथ समझौता करने का आग्रह करते हुए कहा कि पिछले कुछ वर्षों में कई आईटी अप्रवासी भारत लौट आए हैं।

FIIDS ने कहा कि H1 B वीजा धारक प्रवासी भारतीय संभावित रूप से आंतरिक राजस्व सेवा (IRS) द्वारा उनकी आय पर रोके गए सामाजिक सुरक्षा नंबर (SSN) को खो देते हैं। इसलिए वे संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ एक सामाजिक सुरक्षा समझौता (SSA) स्थापित करने का अनुरोध करते हैं। इस सवाल को सर्वे में 5 में से 4 रेटिंग (80 फीसदी) मिली हैं। जानकारी के लिए बता दें कि सामाजिक सुरक्षा नंबर (SSN) संयुक्त राज्य अमेरिका में अमेरिकी नागरिकों, स्थायी निवासियों और अस्थायी (कार्यरत) निवासियों को सामाजिक सुरक्षा अधिनियम की धारा 205(c)(2) के तहत नौ अंकों की संख्या में जारी किया जाने वाला नंबर है। SSN सामाजिक सुरक्षा संख्या कराधान और अन्य उद्देश्यों के लिए एक वास्तविक राष्ट्रीय पहचान संख्या है।