ब्रिस्बेन: टैक्सी में महिला का यौन उत्पीड़न, ड्राइवर अमृतपाल को मिली ये सजा

हालांकि सिंह के वकील ने अदालत में कहा था कि महिला ने यौन संपर्क शुरू किया था क्योंकि उसके पास भुगतान करने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं थे। महिला के पास टैक्सी से घर जाने के अलावा कोई और दूसरा रास्ता नहीं था।

ब्रिस्बेन: टैक्सी में महिला का यौन उत्पीड़न, ड्राइवर अमृतपाल को मिली ये सजा
Photo by the blowup / Unsplash

ब्रिस्बेन की एक अदालत ने घर जाने की कोशिश कर रही एक युवा महिला का यौन उत्पीड़न करने वाले भारतीय मूल के टैक्सी ड्राइवर अमृतपाल सिंह को 18 महीने की जेल की सजा सुनाई है। इस आरोप पर ब्रिस्बेन की जिला अदालत में 35 वर्षीय सिंह के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आठ मामले और गंभीर यौन उत्पीड़न का एक मामला दर्ज किया गया था।

सिंह ने उसे कहा कि "वे f**k कर सकते हैं और यही एकमात्र विकल्प है"। हालांकि महिला ने जोर देकर कहा कि वह कार्ड के ​जरिए भुगतान करेगी।

20 वर्षीय पीड़ित महिला ने अदालत को बताया कि वह फोर्टीट्यूड वैली में थी, जब वह 25 जून 2021 की तड़के फोरेस्ट लेक में घर जाने के लिए सिंह की कैब में बैठी थी। अदालत को बताया गया कि यात्रा शुरू करने के तुरंत बाद सिंह ने हेर्स्टन में आकर भुगतान करने के लिए कहा। महिला यात्री ने मोबाइल ऐप से भुगतान करने की कोशिश की लेकिन उसका ऐप उस वक्त काम नहीं कर रहा था। ऐसे में सिंह ने उसे कहा कि "वे f**k कर सकते हैं और यही एकमात्र विकल्प है"। हालांकि महिला ने जोर देकर कहा कि वह कार्ड के ​जरिए भुगतान करेगी। बावजूद इसके सिंह ने अपना हाथ महिला के प्राइवेट पार्ट के पास रखा और लगातार सेक्स करने के लिए कहा।

महिला ने अदालत में बताया कि इसके बाद सिंह ने पीड़ित महिला का हाथ अपने ​लिंग पर रखा और महिला के न कहने के बावजूद महिला को मुख मैथुन करने के लिए जोर देने लगा। सिंह ने फिर टैक्सी को सड़क से उतार दिया और महिला के पैरों के बीच अपना सिर दे दिया। अदालत को बताया गया कि जब वे अपने गंतव्य पर पहुंचे तो उसने एक चुंबन मांगा तो महिला ने उसे दे दिया लेकिन चुंबन के साथ सिंह ने महिला के स्तनों को पकड़ लिया।

वहीं क्राउन अभियोजक के अनुसार सिंह ने पुलिस को बताया कि महिला ने यौन संपर्क शुरू किया था क्योंकि उसके पास भुगतान करने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं थे। महिला के पास टैक्सी से घर जाने के अलावा कोई और दूसरा रास्ता नहीं था। सिंह के वकील ने कहा कि उनका मुवक्किल जो 2008 से एक टैक्सी ड्राइवर है और वह धार्मिक प्रवृत्ति का है। इसके अलावा सिंह का कोई आपराधिक इतिहास भी नहीं है।

सभी दलीलों को सुनने के बाद न्यायाधीश कैथरीन मैकगिनेस ने निष्कर्ष निकाला कि पीड़िता स्पष्ट रूप से नशे में थी और वह भटकी हुई और असहाय थी। लेकिन आप बतौर टैक्सी चालक के रूप में एक अकेली महिला को ले जा रहे थे। रात का वक्त था, ऐसे में आपकी जिम्मेदारी थी कि आप महिला को सुरक्षित महसूस कराते। न्यायाधीश ने कहा कि मुझे बहुत आश्चर्य होगा अगर इससे लंबे समय तक उस पर कुछ प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा। सिंह को अदालत ने 18 महीने की जेल की सजा सुनाई है।