चीन को अल्पसंख्यकों के दमन के लिए जवाबदेह बनाएंगे : राशद हुसैन

भारतीय अमेरिकी राशद के अनुसार दुनिया भर में अल्पसंख्यकों को गिरफ्तारी, यातना, भेदभाव और यहां तक कि मौत का सामना करना पड़ रहा है। यहूदी विरोधी, ईसाई उत्पीड़न, मुस्लिम विरोधी नफरत और अन्य तरह की असहिष्णुता बढ़ रही है।

चीन को अल्पसंख्यकों के दमन के लिए जवाबदेह बनाएंगे : राशद हुसैन

अमेरिका के अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता दूत के पद के लिए बाइडेन प्रशासन द्वारा नामित किए गए भारतीय अमेरिकी राशद हुसैन ने जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के दमन पर चीन की जवाबदेही ठहराने और वहां के धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के लिए मुस्लिम बहुल देशों के साथ काम करने का संकल्प लिया। राशद हुसैन ने सीनेट की विदेश संबंध समिति के सदस्यों के समक्ष अपनी पद की पुष्टि के दौरान यह टिप्पणी की है।

राशद ने मंगलवार को कहा कि वह चीन के धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा के लिए मुस्लिम-बहुल देशों के भीतर अपने मौजूदा संबंधों का लाभ उठाएंगे। वह उइगरों और अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के दमन के लिए चीन को जवाबदेह ठहराने के लिए गठबंधन को व्यापक बनाने के प्रयास करेंगे।

​हुसैन ने कहा कि यदि मेरी पद के लिए नियुक्ति हो जाती है तो मैं यानी हुसैन इस पद को धारण करने वाला पहला भारतीय अमेरिकी और मुसलमान बन जाउंगा। हुसैन ने कहा कि उनका परिवार भारत के उस इलाके से संयुक्त राज्य अमेरिका आया था जहां उनके पिता का पालन-पोषण एक गांव में हुआ और जहां बिजली नहीं थी।