चीनी रक्षा मंत्री ने कहा, LAC पर गतिरोध के लिए भारत जिम्मेदार, ये कहा

चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंघे ने जोर देकर कहा कि अच्छे संबंध बनाए रखना भारत और चीन दोनों के हित में है क्योंकि दोनों पड़ोसी हैं। उन्होंने कहा कि चीन भारत के साथ अच्छे संबंध बनाने के लिए सक्रियता से प्रयास कर रहा है।

चीनी रक्षा मंत्री ने कहा, LAC पर  गतिरोध के लिए भारत जिम्मेदार, ये कहा

पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर जहां एक तरफ भारत और चीन कई बिंदुओं पर गतिरोध के चलते राजनयिक और सैन्य स्तर पर वार्ता कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर ​बीजिंग ने इस तनाव के लिए नई दिल्ली को दोषी ठहराया है। चीनी रक्षा मंत्री वेई फेंघे ने गतिरोध से खुद को दोषमुक्त करते हुए कहा है कि इस गतिरोध की जिम्मेदारी उनके देश की नहीं है।

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज के 19वें शांगरी-ला डायलॉग में चीनी रक्षा मंत्री ने सीमा तनाव के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि चीन-भारत सीमा संघर्ष की वजह बहुत स्पष्ट हैं। चीन की इस संघर्ष को लेकर कोई जिम्मेदारी नहीं है।

वेई ने जोर देकर कहा कि अच्छे संबंध बनाए रखना भारत और चीन दोनों के हित में है क्योंकि दोनों पड़ोसी हैं। उन्होंने कहा कि चीन भारत के साथ अच्छे संबंध बनाने के लिए सक्रियता से प्रयास कर रहा है। चीनी रक्षा मंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने भारतीय समकक्ष राजनाथ सिंह के साथ अपनी पिछली बातचीत में स्पष्ट रूप से कहा था कि गतिरोध की जिम्मेदारी चीन की नहीं है।

वेई ने कहा कि चीन और भारत पड़ोसी हैं और अच्छे संबंध बनाए रखना दोनों देशों के हितों को पूरा करता है। एलएसी पर शांति बनाए रखने के लिए भारत और चीन दोनों मिलकर काम कर रहे हैं। बता दें कि मई 2020 में गतिरोध शुरू होने के बाद से भारत ने हमेशा यह बात कही है कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी चीन में शुरू हुई कोरोना महामारी के शुरुआती महीनों में LAC के साथ कई क्षेत्रों में स्थानांतरित होने के बाद की स्थिति के लिए जिम्मेदार है। भारत सरकार ने यह भी जोर दिया है कि एलएसी पर शांति दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण मुद्दा है।